31 को जदयू की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक, नया अध्‍यक्ष मिलने की उम्‍मीद

31 को जदयू की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक, नया अध्‍यक्ष मिलने की उम्‍मीद

इस बैठक में आने वाले उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर भी चर्चा की जा सकती है। उत्तर प्रदेश में पार्टी की रणनीति क्या होगी इसको लेकर भी फैसला लिया जा सकता है।

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह के मोदी मंत्रिमंडल में शामिल होने के बाद पार्टी ने नए अध्यक्ष की तलाश शुरू कर दी है। इन सबके बीच खबर यह है कि 31 जुलाई को नई दिल्ली में जदयू की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक होगी। इस बैठक में पार्टी अध्यक्ष आरसीपी सिंह, बिहार के मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता नीतीश कुमार, राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी सहित सभी सांसद और वरिष्ठ पदाधिकारी मौजूद रहेंगे। यह बैठक जंतर मंतर के पास पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में होगी। इस बैठक में शामिल होने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी आज शाम दिल्ली रवाना हो सकते हैं। माना जा रहा है कि यह बैठक काफी अहम हो सकता है जिसमें कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: बिहार सरकार ने फिर दोहराया, ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई है किसी की मौत

बताया जा रहा है कि जदयू की बैठक के में आने वाले सदस्यता अभियान की रूपरेखा पर चर्चा होगी। साथ ही साथ संगठन से मुद्दे भी हल किए जाएंगे। जदयू राष्ट्रीय विस्तार को लेकर भी रणनीति बना सकता है। माना जा रहा है कि इसके लिए रणनीति तैयार की जा चुकी है बस उसे अंतिम रूप देना है। इसके अलावा सूत्र यह भी जानकारी दे रहे हैं कि जदयू की ओर से बहुत बड़े बदलाव किए जा सकते है। कुल मिलाकर कहे तो अगर जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष का बदलाव होता है तो जाहिर सी बात है कि संगठन में कुछ नए और युवा चेहरे को शामिल किया जा सकता है। इस बैठक में आने वाले उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर भी चर्चा की जा सकती है। उत्तर प्रदेश में पार्टी की रणनीति क्या होगी इसको लेकर भी फैसला लिया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: चिराग पासवान जैसा हो जाएगा मुकेश सहनी का हाल ! एनडीए की बैठक का बहिष्कार पड़ सकता है भारी

इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उपस्थिति में जनता दल यूनाइटेड के पदाधिकारियों की बैठक हुई। इस बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस बात के संकेत दे दिए हैं कि उपेंद्र कुशवाहा जदयू के नए अध्यक्ष हो सकते हैं। पदाधिकारियों की बैठक के में नीतीश कुमार ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा के आने से पार्टी मजबूत हुई है। हालांकि कुछ सूत्र यह भी बता रहे हैं कि उपेंद्र कुशवाहा के अलावा जदयू के अध्यक्ष पद की रेस में मुंगेर से सांसद और नीतीश कुमार के बेहद करीबी राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह आगे चल रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।