दिल्ली में मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस के हल्ला बोल प्रदर्शन में शामिल होगी कमलनाथ सरकार

दिल्ली में मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस के हल्ला बोल प्रदर्शन में शामिल होगी कमलनाथ सरकार

कांग्रेस जिला अध्यक्षों और प्रभारीयों को भी दिल्ली में मोदी सरकार के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन में शामिल होने का आदेश प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने दिया है। मध्यप्रदेश कांग्रेस का अनुमान है कि 14 नवम्बर को दिल्ली में मध्यप्रदेश से 40 से 50 हजार कांग्रेस कार्यकर्ता केन्द्र सरकार के खिलाफ हल्ला बोल प्रदर्शन में शामिल होगें।

भोपाल। देश की राजधानी दिल्ली में केन्द्र सरकार की आर्थिक नीतियों के खिलाफ अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के 14 दिसम्बर को हो रहे हल्ला बोल प्रदर्शन में कमलनाथ सरकार शामिल होने की तैयारी कर रही है। जिसको लेकर गुरूवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ तथा प्रदेश प्रभारी दीपक बाबरिया ने जिला अध्यक्षों और प्रभारियों की बैठक ली। इस बैठक में तय किया गया है कि राज्य के सभी जिलों में 25 नवम्बर को केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया जाएगा। हालंकि राजधानी भोपाल में 25 की जगह 26 नवम्बर को यह प्रदर्शन किया जाएगा। भोपाल में आयोजित आलमी तब्लीगी इज्तिमा के कारण प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने यह निर्णय लिया है। 

 इसे भी पढ़ें: चुनावी बॉन्ड मुद्दे को लेकर कांग्रेस सांसदों ने किया विरोध प्रदर्शन

वही दिल्ली में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में होने वाले हल्ला बोल प्रदर्शन में मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार की पूरी कैबिनेट शामिल होगी। इसी के साथ कांग्रेस जिला अध्यक्षों और प्रभारीयों को भी दिल्ली में मोदी सरकार के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन में शामिल होने का आदेश प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने दिया है। मध्यप्रदेश कांग्रेस का अनुमान है कि 14 नवम्बर को दिल्ली में मध्यप्रदेश से 40 से 50 हजार कांग्रेस कार्यकर्ता केन्द्र सरकार के खिलाफ हल्ला बोल प्रदर्शन में शामिल होगें।  

 

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ के मंत्री ने लगाया आरोप, केंद्र आर्थिक मदद में कर रहा भेदभावपूर्ण व्यवहार

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने जिला अध्यक्षों और प्रभारीयों की बैठक में आग्रह किया कि प्रदेश सरकार की एक साल की उपलब्धियों को भी आप लोग आम जनता तक पहुँचाए। इस दौरान 25 नवम्बर को केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ प्रदेश के सभी जिलों में हो रहे प्रदर्शन में किसानों को राहत राशी जल्द देने की मांग कांग्रेस करेंगी। प्रदेश में अतिवृष्टि के चलते किसानों की फसलें बरबाद हो गई है जिसको लेकर राज्य की कमलनाथ सरकार केन्द्र सरकार से कई बार मदद की गुहार लगा चुकी है। 

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।