कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा उडुपी मठ में नए परिसर का उद्घाटन करेंगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 15, 2021   16:10
  • Like
कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा उडुपी मठ में नए परिसर का उद्घाटन करेंगे

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा 18 जनवरी को उडुपी में श्रीकृष्ण मठ जाएंगे और मंदिर में श्रद्धालुओं के कतार लगाने के लिए बने नए परिसर ‘विश्व पथ’ का उद्घाटन करेंगे।

मंगलुरु। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा 18 जनवरी को उडुपी में श्रीकृष्ण मठ जाएंगे और मंदिर में श्रद्धालुओं के कतार लगाने के लिए बने नए परिसर ‘विश्व पथ’ का उद्घाटन करेंगे। अदमर मठ इस समय द्विवार्षिक ‘पर्याय’ पूजा का आयोजन करा रहा है। इसी मठ के पास श्रीकृष्ण मंदिर में पूजा अर्चना करने का अधिकार है। अदमर मठ ही उडुपी के अष्ट मठ के पांचवें शताब्दी समारोह ‘पर्याय पूजा’ के तहत विभिन्न धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन करा रहा है।

इसे भी पढ़ें: कृषि कानूनों के खिलाफ धरने पर बैठे कांग्रेस सांसदों से मिले राहुल और प्रियंका गांधी

मठ के प्रबंधक गोविंदराजू ने बृहस्पतिवार को उडुपी में पत्रकारों को बताया कि कार्यक्रम शनिवार को शुरू होगा और इसका समापन 23 जनवरी को होगा। श्रद्धालुओं के कतार लगाने के लिए बने नए परिसर ‘कृष्ण पथ’ से श्रीकृष्ण के ‘दर्शन’ का सीधा मार्ग जाता है। मंदिर में प्रवेश लकड़ी के एक रथ से होकर किया जाएगा जिसके बाद माधव सरोवर है। श्रद्धालु ‘स्वर्ण गोपुरा’ पहुंचने से पहले श्रीकृष्ण का आशीर्वाद ले सकते हैं और प्रसादम के लिए ‘भोजन शाला’ जाने के बाद मंदिर से बाहर जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: देश में 16 जनवरी से शुरू कोरोना टीकाकरण, गोवा में 700 स्वास्थ्य कर्मियों को लगेगा कोविड-19 वैक्सीन

‘पर्याय ’ पूजा के इतिहास के बारे में उन्होंने बताया कि माधव आचार्यके समय में आठ मठों के प्रमुखों के लिए दो महीने का यह आयोजन क्रमवारहोता था। बाद में श्रीवाडिराजा ने 1522 में इसे द्विवार्षिक कर दिया। उसके बाद से ही उडुपी के आठ मठों के प्रमुखों द्वारा बारी बारी से दो साल के कृष्ण पूजा की परंपरा चली आ रही है। कार्यक्रम के तहत 18 जनवरी को माधव आचार्य तथा श्रीवाडीराजा की पुस्तकों को रखकर जोडुकट्टे से श्रीकृष्ण मठ तक शोभा यात्रा निकाली जाएगी। इस दौरान ग्रामीण उत्पादों की आठ दिवसीय प्रदर्शनी सह बाजार का भी आयोजन किया जा रहा है, जिसमें बिहार की मधुबनी पेंटिंग, मिथिला पेंटिंग, मंजूषा पेंटिंग, लकड़ी और मिट्टी की बनी कलाकृतियां शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मध्य प्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से हुआ शुरू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   16:02
  • Like
मध्य प्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से हुआ शुरू

मध्यप्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से शुरू हो गया। टीकाकरण के इस चरण के तहत वरिष्ठ नागरिकों और गंभीर बीमारी से पीड़ित 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीके की खुराक दी जायेगी।

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से शुरू हो गया। टीकाकरण के इस चरण के तहत वरिष्ठ नागरिकों और गंभीर बीमारी से पीड़ित 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीके की खुराक दी जायेगी। भोपाल के सरकारी गांधी मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) में प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग की उपस्थिति में टीकाकरण की शुरुआत हुई। जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने सोमवार को गांधी मेडिकल कॉलेज के कोविड-19 टीकाकरण केन्द्र में पहुंचकर टीकाकरण अभियान का जायजा लिया।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस महामारी: कश्मीर में करीब एक साल के बाद स्कूल खुले

उन्होंने सुबह पहुंचे वरिष्ठ नागरिक डॉ. मोहन टंकवाल, सरदार कुलवंत सिंह, अंगूरी जैन और डॉ. एन.पी. मिश्रा सहित अन्य को अपनी देख-रेख में टीका लगवाया।’’ टीकाकरण के बाद वरिष्ठ नागरिकों को 30 मिनट तक देखरेख में रखा गया। इस बीच, इन्दौर जिला में भी कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा अभियान शुरू हुआ। यहां टीके की पहली खुराक रवि कुमार जैन (65) को दी गई। जैन ने टीकाकरण के बाद संवाददाताओं से कहा, मैं पूरी तरह ठीक महसूस कर रहा हूं। मैं अपनी पत्नी को टीका लगवाने के लिए सोमवार को ही अस्पताल लेकर आ रहा हूं।

इसे भी पढ़ें: ममता दीदी के कैंपेन का जिम्मा संभाल रहे PK बने कैप्टन के प्रधान सलाहकार

कोविड-19 टीके को लेकर फैली भ्रांतियों को सिरे से खारिज करते हुए जैन ने कहा, बतौर जागरूक नागरिक हमें टीकाकरण को लेकर सरकारी दिशा-निर्देशों का पालन करना चाहिए और सभी पात्र लोगों को टीका लगवाना चाहिए। चश्मदीदों ने बताया कि इन अस्पतालों में सोमवार सुबह जुटे कई वरिष्ठ नागरिकों ने बताया कि उन्हें टीकाकरण के लिए ऑनलाइन पंजीयन कराने में समस्या आई। अस्पताल के कुछ कर्मचारी इस पंजीयन में उनकी मदद करते भी देखे गए। प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि मध्यप्रदेश में रविवार को कोविड-19 के 363 नए मामले आये। इससे राज्य में संक्रमितों की संख्या अब तक 2,61,766 हो गयी है और संक्रमण से 3,864 लोगों की मौत हो चुकी है। अधिकारी ने बताया कि रविवार को प्रदेश के कुल 25 जिलों में से 16 जिलों में कोविड-19 का कोई नया मामला सामने नहीं आया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


ममता दीदी के कैंपेन का जिम्मा संभाल रहे PK बने कैप्टन के प्रधान सलाहकार

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 1, 2021   16:01
  • Like
ममता दीदी के कैंपेन का जिम्मा संभाल रहे PK बने कैप्टन के प्रधान सलाहकार

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रशांत किशोर को अपना प्रधान सलाहकार नियुक्त किया है। जिसकी जानकारी खुद कैप्टन अमरिंदर ने ट्वीट कर दी। अमरिंदर सिंह ने लिखा कि पंजाब के लोगों की भलाई के लिए एक साथ काम करने के लिए तत्पर हैं।

बिहार राजनीति, कूटनीति और अर्थशास्‍त्र के पंडित माने जाने वाले चाणक्‍य की धरती है, जिसने चंद्रगुप्‍त मौर्य को पाटलिपुत्र पर राज करने के तरीकों और राजनीति के रहस्‍यों से रूबरू करवाया था। लेकिन वर्तमान में मगध के एक आधुनिक चाणक्य जिसने बचपन में चाय बेचने वाले नरेंद्र मोदी की चुनावी रणनीति की कमान को संभालते हुए लोकसभा चुनाव 2014 में उनका प्याला वोटों से भर दिया, फिर नीतीश कुमार को 'बिहार में बहार हो नीतेशे कुमार हो' के नारे के साथ फिर से राज्य के सर्वोच्च कुर्सी पर काबिज किया और अमरिंदर सिंह को पंजाब का कैप्टन बना दिया। ममता दीदी के कैंपेन का जिम्मा संभाल रहे राजनीति के पीके से जुड़ी खबर पंजाब से आ गई। 

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रशांत किशोर को अपना प्रधान सलाहकार नियुक्त किया है। जिसकी जानकारी खुद कैप्टन अमरिंदर ने ट्वीट कर दी। अमरिंदर सिंह ने लिखा कि पंजाब के लोगों की भलाई के लिए एक साथ काम करने के लिए तत्पर हैं।

कांग्रेस और प्रशांत किशोर

प्रशांत ने कांग्रेस में यूपी और पंजाब के जिम्मेदारी संभाली। उत्तर प्रदेश में भी किशोर ने बिहार की तर्ज पर अखिलेश यादव और राहुल गांधी का मिलाप अच्छे लड़के के रूप में करवाया। प्रशांत किशोर ने नई चुनावी चाल के तहत ‘अपने लड़के बनाम बाहरी मोदी’ का नारा भी दिया लेकिन यूपी को राहुल और अखिलेश का साथ पसंद नहीं आया और कांग्रेस सात सीटों पर सिमट गई। लेकिन पंजाब में विधानसभा चुनाव 2017 में कांग्रेस की जीत के पीछे अमरिंदर के चेहरे के साथ ही प्रशांत की रणनीति का भी हाथ है जिसने कांग्रेस का तूफान ऐसा उड़ाया कि सभी देखते रह गए। पंजाब चुनाव के बाद प्रशांत किशोर ने एक रिपोर्ट पेश की थी, जिसमें उन्होंने साफ कह दिया था कि पंजाब में कांग्रेस 68 से 70 सीटों पर कब्ज़ा करेगी और सरकार बनाएगी और कांग्रेस ने 77 सीटों पर जीत हासिल की। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


कोरोना वायरस महामारी: कश्मीर में करीब एक साल के बाद स्कूल खुले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   15:59
  • Like
कोरोना वायरस महामारी: कश्मीर में करीब एक साल के बाद स्कूल खुले

कश्मीर में कोरोना वायरस महामारी की वजह से करीब एक साल से बंद स्कूल सोमवार को दोबारा खुल गए। उल्लेखनीय है कि पिछले साल नौ मार्च को आखिरी बार नौवीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थी स्कूल गए थे।

श्रीनगर। कश्मीर में कोरोना वायरस महामारी की वजह से करीब एक साल से बंद स्कूल सोमवार को दोबारा खुल गए। उल्लेखनीय है कि पिछले साल नौ मार्च को आखिरी बार नौवीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थी स्कूल गए थे। प्रशासन ने हालांकि, उन्हीं विद्यार्थियों को स्कूल आने की अनुमति दी है जिनके माता-पिता ने लिखित में इसकी मंजूरी दी है।

इसे भी पढ़ें: ये घरेलू नुस्खे करेंगे आपके हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल, मिलेगा जल्द आराम

अधिकतर निजी स्कूल अभिभावकों से अनापत्ति प्रमाण पत्र ले रहे हैं ताकि प्रबंधन पर स्वास्थ्य संबंधी समस्या उत्पन्न होने पर आरोप नहीं लगे। पहले दिन कई स्कूलों ने विद्यार्थियों को स्वस्थ होने का चिकित्सा प्रमाण पत्र लेकर आने को कहा है। सरकारी आदेश के मुताबिक छठी से आठवीं तक की कक्षाएं आठ मार्च से खुलेंगी जबकि बाकी कक्षाएं 18 मार्च से खुलेंगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept