वेंकैया नायडू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का किया उद्घाटन, अनुराग ठाकुर बोले- खेल की भावना का करें सम्मान

वेंकैया नायडू ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का किया उद्घाटन, अनुराग ठाकुर बोले- खेल की भावना का करें सम्मान
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि हार-जीत खेल का हिस्सा है। मैं तो कहूंगा कि आप खेल की भावना का सम्मान करिए और आगे बढ़ें। मुझे भरोसा है कि पिछली बार की तरह इस बार भी जो छात्र यूनिवर्सिटी खेलों में खेल रहे हैं उनको भविष्य में आप देश के लिए खेलते हुए देखेंगे।

बेंगलुरू। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का आगाज हुआ। इस दौरान उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने इसका उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई, राज्यपाल थावर चंद गहलोत और केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर मौजूद रहे। 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में भाजपा पर बरसे केजरीवाल, कहा- अगर आपको दंगाई चाहिए तो उनको वोट दे देना 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि हार-जीत खेल का हिस्सा है। मैं तो कहूंगा कि आप खेल की भावना का सम्मान करिए और आगे बढ़ें। मुझे भरोसा है कि पिछली बार की तरह इस बार भी जो छात्र यूनिवर्सिटी खेलों में खेल रहे हैं उनको भविष्य में आप देश के लिए खेलते हुए देखेंगे।

मुख्यमंत्री बोम्मई ने कहा कि यूनिवर्सिटी एक ऐसी जगह है जहां आपको हर क्षेत्र में बेहतर होने का मौका मिलता है। यही समय है जब आपको बाहर निकलकर साहसी कार्य करना चाहिए। आप अपने पंख खोलो और जितना उड़ सकते हो उड़ो। जो भी असंभव हो उसे अपने प्रयास से संभव कर दिखाओ। 

इसे भी पढ़ें: कुमारस्वामी ने धर्मनिरपेक्ष दलों की एकजुटता का किया आह्वान, बोले- कर्नाटक में अंतिम सांस ले रही है कांग्रेस 

गौरतलब है कि खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का आयोजन कोरोना महामारी के कारण एक साल की देरी से हो रहा है। इसमें 200 से अधिक यूनिवर्सिटी के 4,000 से अधिक खिलाड़ी 20 खेलों में हिस्सा लेंगे। जिसमें तीरंदाजी, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, बास्केटबॉल, मुक्केबाजी, तलवारबाजी, फुटबॉल, हॉकी, जूडो, कबड्डी, निशानेबाजी, तैराकी, टेनिस जैसे खेल शामिल हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।