महाराष्ट्र विधानसभा परिसर के बाहर किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए बड़े पैमाने पर पुलिस का बंदोबस्त

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   13:12
महाराष्ट्र विधानसभा परिसर के बाहर किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए बड़े पैमाने पर पुलिस का बंदोबस्त

विधानसभा परिसर के बाहर किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए बड़े पैमाने पर पुलिस का बंदोबस्त किया गया है।उन्होंने बताया, ‘‘विधानसभा के सुरक्षा अधिकारी सदन के भीतर सुरक्षा व्यवस्था की देख-रेख कर रहे हैं।’’

मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा में बुधवार को शक्ति परीक्षण कराने के उच्चतम न्यायालय के आदेश के आलोक में यहां विधान भवन और उसके आस-पास की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गयी है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी।पुलिस अधिकारी ने बताया कि विधानसभा परिसर के बाहर किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए बड़े पैमाने पर पुलिस का बंदोबस्त किया गया है।उन्होंने बताया, ‘‘विधानसभा के सुरक्षा अधिकारी सदन के भीतर सुरक्षा व्यवस्था की देख-रेख कर रहे हैं।’’

इसे भी पढ़ें: क्या अजित पवार अभी भी विधानसभा में राकांपा के नेता हैं ?

अधिकारी ने बताया कि मुंबई के पुलिस आयुक्त संजय बार्वे और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने सोमवार को विधान भवन के सुरक्षा इंतजाम की समीक्षा की।उन्होंने बताया, ‘‘विधान भवन में किसी भी अनधिकृत व्यक्ति को प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। प्रवेश के लिए पास केवल उन्हीं लोगों को जारी किया जाएगा जो परिसर में दाखिल होने के लिए अधिकृत होंगे।’’उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को व्यवस्था दी कि विधानसभा में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के लिए बहुमत साबित करने के वास्ते बुधवार को शक्ति परीक्षण कराया जाए। अदालत ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि सदन के सभी सदस्य बुधवार को ही शपथ लें। अदालत ने यह भी कहा कि पूरी प्रक्रिया शाम पांच बजे तक समाप्त हो जाना चाहिए।शीर्ष अदालत ने पूरी कार्यवाही का सीधा प्रसारण कराने तथा शक्ति परीक्षण के दौरान गुप्त मतदान नहीं कराने का भी निर्देश दिया है।

 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।