जयललिता के नक्शेकदम पर चलते हुए भाजपा से लोकसभा चुनाव गठबंधन : अन्नाद्रमुक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2019   13:11
जयललिता के नक्शेकदम पर चलते हुए भाजपा से लोकसभा चुनाव गठबंधन : अन्नाद्रमुक

दोनों शीर्ष नेताओं ने पार्टी कार्यकर्ताओं को लिखे पत्र में कहा, ‘‘हमने विजयी गठबंधन बनाया है जो राष्ट्रीय हितों की रक्षा करेगा, जिसे कभी पुरैची थलाइवी ने 1998 में किया था।’’

चेन्नई। तमिलनाडु में सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक ने शनिवार को कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के साथ गठबंधन राष्ट्रीय हित में है। पार्टी ने कहा कि ऐसा दिवंगत नेता जे जयललिता के नक्शेकदम पर चलते हुए किया गया है जिन्होंने 1998 में भगवा पार्टी के साथ चुनावी गठबंधन किया था। जयललिता के 71वें जन्मदिन पर अन्नाद्रमुक के शीर्ष नेताओं ओ. पनीरसेल्वम और के. पलानीस्वामी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि आगामी लोकसभा चुनावों और 21 विधानसभा सीटों पर संभावित उपचुनावों में वे ‘‘पुरैची थलाइवी अम्मा जैसी शानदार जीत’’ हासिल करने का संकल्प लें। दोनों शीर्ष नेताओं ने पार्टी कार्यकर्ताओं को लिखे पत्र में कहा, ‘‘हमने विजयी गठबंधन बनाया है जो राष्ट्रीय हितों की रक्षा करेगा, जिसे कभी पुरैची थलाइवी ने 1998 में किया था।’’

इसे भी पढ़े: दो महीने नहीं होगी ‘मन की बात’, मई में वापसी का मोदी ने किया वादा

अन्नाद्रमुक गठबंधन ने 1998 के लोकसभा चुनावों में तमिलनाडु में 39 सीटों में से 30 सीटों पर जीत दर्ज की थी जिनमें तीन सीटें भाजपा ने जीती थी और बाकी की सीटें द्रमुक खेमे में गयी थीं।भाजपा के साथ जाने के अपने फैसले का बचाव करते हुए अन्नाद्रमुक ने कहा कि वह धर्मनिरपेक्षता, राज्य की स्वायत्तता और सामाजिक न्याय सहित अपनी मूल राजनीतिक विचारधाराओं के प्रति प्रतिबद्ध रहेगी। भाजपा के साथ गठबंधन और ‘‘राज्य की स्वायत्ता का उल्लंघन’’ समेत विभिन्न मुद्दों को लेकर अन्नाद्रमुक विपक्षी द्रमुक के निशाने पर है। बहरहाल भाजपा ने कहा कि अन्नाद्रमुक तमिलनाडु में गठबंधन का नेतृत्व करेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।