विजयवर्गीय की पोहा टिप्पणी पर बरसीं ममता, बोलीं- किसने उन्हें ये कहने का अधिकार दिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 27, 2020   20:45
विजयवर्गीय की पोहा टिप्पणी पर बरसीं ममता, बोलीं- किसने उन्हें ये कहने का अधिकार दिया

भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय की टिप्पणी पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि किसने उन्हें (भाजपा) ऐसी टिप्पणी करने का अधिकार दिया है ? क्या आप किसी को पोहा खाते देख उसकी राष्ट्रीयता निर्धारित कर सकते हैं ? क्या आप किसी की राष्ट्रीयता उसके पहनावे के आधार पर बता सकते हैं ?

कोलकाता। भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय के खानपान और राष्ट्रीयता के बीच अजीबो-गरीब संबंध बताने और इसके लिए सोशल मीडिया पर आलोचना झेलने के कुछ दिन बाद, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोगों की खानपान की आदतों या उनके पहनावे पर टिप्पणी करने के भगवा पार्टी के नेताओं के अधिकार पर सवाल उठाया। पश्चिम बंगाल के लिए भाजपा की रणनीति तैयार करने वाले विजयवर्गीय ने इंदौर में एक सम्मेलन में कहा था कि उन्हें संदेह है कि उनके घर पर श्रमिकों के बीच बांग्लादेशी भी थे क्योंकि वे पोहा खा रहे थे।

इसे भी पढ़ें: कैलाश विजयवर्गीय का दावा, मेरे घर काम कर रहे थे संदिग्ध बांग्लादेशी मजदूर

साथ ही उन्होंने कहा था कि मजदूरों के खाने-पीने की “अजीब’’ आदतों ने उनकी राष्ट्रीयता के बारे में संदेह पैदा किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल झारखंड में चुनाव रैली के दौरान कहा था कि जो लोग नागरिकता कानून को लेकर आगजनी कर रहे हैं, “उन्हें उनके कपड़ों से पहचाना जा सकता है।” तृणमूल कांग्रेस छात्र परिषद (छात्र शाखा) की कार्यशाला को संबोधित करते हुए बनर्जी ने कहा, “किसने उन्हें (भाजपा) ऐसी टिप्पणी करने का अधिकार दिया है? क्या आप किसी को पोहा खाते देख उसकी राष्ट्रीयता निर्धारित कर सकते हैं? क्या आप किसी की राष्ट्रीयता उसके पहनावे के आधार पर बता सकते हैं?”

उन्होंने कहा, “उन्हें (भाजपा) याद रखना चाहिए कि हम उनके बंधुआ मजदूर नहीं हैं, भारत के लोग उनके बंधुआ मजदूर नहीं हैं।” भाजपा की कड़ी आलोचक टीएमसी सुप्रीमो ने दोहराया कि वह बंगाल में एनपीआर प्रक्रिया तब तक नहीं होने देंगी जब तक कि प्रपत्र में जरूरी सुधार नहीं कर लिए जाते। उन्होंने पूछा, “ऐसा क्यों है कि लोगों से एनपीआर के लिए परिजन का पता और जन्म प्रमाण-पत्र देने को कहा जा रहा है?” भाजपा पर “दोहरा चरित्र’’ अपनाने का आरोप लगाते हुए बनर्जी ने कहा, “कुछ लोग केवल एक रंग का अस्तित्व चाहते हैं..लेकिन हमारा देश सभी रंगों से बना खूबसूरत चित्र है।”

इसे भी पढ़ें: विजयवर्गीय के बचाव में उतरे शिवराज बोले, मैं भी कह रहा हूं कि आंदोलन की आग लगेगी

बनर्जी ने बंगाल में सीएए के समर्थन में की गई भाजपा की ‘अभिनंदन यात्रा’ को ‘विसर्जन यात्रा’ करार दिया और छात्रों से प्रत्येक घर में जाकर भगवा पार्टी के “गलत सूचना प्रचार” से निपटने को कहा। उन्होंने दावा किया कि भाजपा दक्षिण बंगाल के कुछ हिस्सों में लोगों से उनका आधार कार्ड पार्टी की स्थानीय इकाई के पास जमा कराने को कह रही है ताकि उनके नाम मतदाता सूची में अद्यतन किए जा सकें। उन्होंने कहा, “वे (भाजपा) ये क्यों मांग रहे हैं? उनका मकसद क्या है? कृपया उन्हें ऐसे ब्योरे न दें, उनके पास आपका आधार ब्योरा मांगने का अधिकार नहीं है।”

टीएमसी की विभिन्न शाखाओं के प्रदर्शन कार्यक्रम पर बनर्जी ने कहा कि उसकी व्यापार संघ शाखा 28 जनवरी से रानी रसमणि एवेन्यू पर तीन दिन का प्रदर्शन करेगी। ये प्रदर्शन एअर इंडिया, बीएसएनएल और अन्य केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (पीएसयू) की हिस्सेदारी बेचने के केंद्र के फैसले के खिलाफ होंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।