107 वर्ष के बाद काशी में पुनर्स्थापित होगी माता अन्नपूर्णा देवी, अयोध्या से रवाना हुई यात्रा

107 वर्ष के बाद काशी में पुनर्स्थापित होगी माता अन्नपूर्णा देवी, अयोध्या से रवाना हुई यात्रा

अयोध्या में भगवान श्री राम के जन्म स्थान पर रात्रि विश्राम के बाद काशी कॉरिडोर में स्थापित किए जाने के लिए रवाना हुई मां अन्नपूर्णा देवी पुनर्स्थापित रथ यात्रा, प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी में यात्रा की करेंगे अगवानी।

अयोध्या। माता अन्नपूर्णा देवी पुनर्स्थापना यात्रा आज भगवान श्री राम जन्मभूमि पर आरती पूजन कर काशी विश्वनाथ मंदिर वाराणसी के लिए रवाना हुई। इस दौरान सांस्कृतिक आयोजनों से सजी झाकियाँ इस यात्रा का आकर्षक रहा। और कड़ी सुरक्षा के बीच निकाली गई। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा नेता विनय कटियार ने सलमान खुर्शीद को बताया पागल, बोले- संस्कार विहीन हैं राशिद अल्वी

107 वर्ष पूर्व वाराणसी से माता अन्नपूर्णा देवी की चोरी हुई प्रतिमा को कनाडा से अपने देश की सांस्कृतिक धरोहर व पहचान को बनाये रखने के लिए पीएम मोदी के सहरानीय प्रयास से वापस ले आये है। और जल्द ही यह प्रतिमा काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में स्थापित किया जाएगा। कनाडा से माता अन्नपूर्णा देवी की मूर्ति आने के बाद केंद्र सरकार के द्वारा भव्य यात्रा के तहत वाराणसी पहुंचेगा। आज यह यात्रा देर रात्रि लगभग 2 बजे राम की नगरी पहुची है। और श्री रामलला के जन्मस्थान पर पूजन अर्चन के बाद विश्राम कराया गया। और दूसरे दिन सुबह 10 बजे यात्रा राम नगरी से विधि विधान पूर्वक पूजन कर रवाना हुआ। इस दौरान झांकियों में लोक नृत्य व भजन गायन करते हुए माता अन्नपूर्णा देवी की प्रतिमा वाराणसी के लिए रवाना हुई।

इसे भी पढ़ें: जब एक ही मंच पर नजर आए भाजपा नेता विनय कटियार और बसपा पूर्व विधायक जितेंद्र सिंह बबलू

यात्रा में शामिल प्रदेश के पर्यटन मंत्री नीलकंठ तिवारी ने कहा कि राम जन्मभूमि परिसर में वैदिक आचार्यों के द्वारा विधि विधान पूर्वक संरक्षण के बाद इस यात्रा को वाराणसी के लिए लेकर निकले हुए हैं जो विभिन्न रास्तों से होते हुए देर शाम वाराणसी पहुंचेगी बताएं कि कल सुबह 9:20 पर इस प्रतिमा को विश्वनाथ कॉरिडोर में स्थापित किया जाएगा वही जानकारी दी कि आज इस यात्रा की अगवानी के लिए वाराणसी में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मौजूद होंगे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।