मायावती ‘राजनीतिक अवसाद’ से पीड़ित हैं: दिनेश शर्मा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 13, 2019   14:08
मायावती ‘राजनीतिक अवसाद’ से पीड़ित हैं: दिनेश शर्मा

विदित हो कि मायावती और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच राजस्थान के अलवर में हुए सामूहिक बलात्कार कांड को लेकर रविवार को वाक् युद्ध छिड़ गया था

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा है कि बसपा अध्यक्ष ‘राजनीतिक अवसाद’ से पीड़ित हैं। उन्हें भय है कि बसपा प्रत्याशी वर्तमान आम चुनाव में पराजित हो जायेंगे और इसी के परिणामस्वरूप वह अपना धैर्य और संयम खो रही हैं। शर्मा ने दावा किया कि मायावाती की स्मृति धुंधली हो रही है और वह कमजोरी प्रदर्शित कर रही हैं। उन्होंने कहा, ‘‘बसपा सुप्रीमो के कथनों में ये सभी लक्षण स्पष्ट लक्षित हो रहे हैं।’’ शर्मा ने कहा कि बसपा सुप्रीमो को ‘‘राजनीतिक स्वास्थ्य टॉनिक’’ की आवश्यकता है। 

उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनाव में बसपा-सपा-रालोद गठबंधन बनाकर चुनाव लड़ रहे हैं। मायावती ने आरोप लगाया था कि केंद्र सरकार आतंकवाद और नक्सलवाद जैसे मुद्दों को हल करने में ‘‘बुरी तरह असफल’’ रही है। शर्मा ने कहा, ‘‘बसपा प्रमुख मायावती राजनीतिक अवसाद की पीड़ा भोग रही हैं।’’ उन्होंने कहा कि बसपा प्रत्याशियों की पराजय आसन्न है और उनके गठबंधन सहयोगियों की भी यही दशा है।  उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘यही कारण है कि वह (मायावती) प्रधानमंत्री को ‘झूठा पिछड़ा’ कह रही है। उन्हें अपनी स्मृति में अवश्य सुधार करना चाहिए और इसके लिए उन्हें राजनीतिक स्वास्थ्य टॉनिक की आवश्यकता है।’’ 

इसे भी पढ़ें: जय श्रीराम बोल रहा हूं दीदी, हिम्मत है तो गिरफ्तार कर लो: शाह

विदित हो कि मायावती और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच राजस्थान के अलवर में हुए सामूहिक बलात्कार कांड को लेकर रविवार को वाक् युद्ध छिड़ गया था। उन्होंने कहा , ‘‘बसपा सरकार (उप्र में)ने सामान्य व्यक्तियों के कल्याण हेतु कुछ नहीं किया..यह मोदी सरकार है जो पंच तीर्थ (बी आर आम्बेडकर के सम्मान में) का विकास कर रही है।’’ शर्मा ने कहा कि मायावती दलित होने का पाखंड करती हैं लेकिन उन्होंने समुदाय के उत्थान हेतु कुछ नहीं किया। उन्होंने दलित होने का सिर्फ ढोंग किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी सबका साथ, सबका विकास में विश्वास करते हैं। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।