नए CM को लेकर कांग्रेस में तकरार तेज, मंत्री धारीवाल के घर गहलोत कैंप के 20 विधायकों की मीटिंग

Gehlot
Creative Common
अभिनय आकाश । Sep 25, 2022 3:32PM
शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल के घर गहलोत कैंप के विधायकों की मीटिंग हो रही है, इसमें सिर्फ 20 विधायक ही पहुंचे हैं। ये लोग अपनी ताकत दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि विधायकों ने सीएलपी की बैठक में आने से मना कर दिया है।

राजस्थान में अशोक गहलोत की जगह किसी दूसरे नेता को चुनने के लिए आज शाम कांग्रेस विधायक दल की बैठक होगी। इसके लिए कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीनियर नेताओँ को पर्यवेक्षक बनाकर  भेजा है। इस बीच शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल के घर गहलोत कैंप के विधायकों की मीटिंग हो रही है, इसमें सिर्फ 20 विधायक ही पहुंचे हैं। ये लोग अपनी ताकत दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि विधायकों ने सीएलपी की बैठक में आने से मना कर दिया है। उन्होंने शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल के आवास पर बैठक की। धारीवाल के आवास पर गहलोत खेमे के विधायकों में पार्टी के उप सचेतक महेंद्र चौधरी, विधायक दानिश अबरार, महेश जोशी और गोविंद मेघवाल शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने राजस्थान में रविवार को बुलाई विधायक दल की बैठक

सूत्रों ने बताया कि अशोक गहलोत कांग्रेस के अध्यक्ष चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने से पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे सकते हैं। कांग्रेस ने राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के जयपुर आवास पर रविवार शाम 7 बजे अपने विधायक दल की बैठक बुलाई, इस घोषणा के बाद नेतृत्व परिवर्तन की चर्चा के बीच कि वह पार्टी अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का जैसलमेर एयरपोर्ट पहुंचने पर कैबिनेट मंत्री शाले मोहम्मद, विधायक रूपा राम, बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन, कांग्रेस जिलाध्यक्ष उम्मेदसिंह तंवर, नगरपरिषद सभापति हरिवल्लभ कल्ला व कॉंग्रेसी कार्यकर्ताओं ने किया स्वागत। 

इसे भी पढ़ें: राजस्‍थान में निर्यातकों के लिए विभिन्न छूटों को गहलोत ने दी मंजूरी

सूत्रों के मुताबिक, गहलोत सचिन पायलट के सीएम के रूप में विरोध कर रहे हैं और चाहते हैं कि विधायक अपनी बात कहें। अगर अशोक गहलोत खेमा की तरफ से गोविंद सिंह डोटासरा और डॉ सीपी जोशी जैसे नामों को सामने रख सकते हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी द्वारा पार्टी में 'एक व्यक्ति-एक पद' के सिद्धांत को लागू करने पर जोर देने के साथ राजस्थान सरकार के कई मंत्रियों ने अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष दोनों के रूप में बनाए रखने की वकालत की है।

अन्य न्यूज़