उत्तर प्रदेश टैनीकोइट एसोसिएशन के अध्यक्ष बने राज्यमंत्री जय कुमार सिंह, डा. रफत बने महासचिव

उत्तर प्रदेश टैनीकोइट एसोसिएशन के अध्यक्ष बने राज्यमंत्री जय कुमार सिंह, डा. रफत बने महासचिव

जय कुमार सिंह जैकी ने बताया कि अभी कोरोना प्रोटोकाल के चलते जिन नियमों के चलते आयोजन की अनुमति होगी, उसके अंर्तगत टेक्नीकल सेमिनार और स्टेट चैंपियनशिप की तारीखों की निकट भविष्य में घोषणा की जाएगी।

लखनऊ। देश में टैनीकोइट खेल की लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही हैं। इसको देखते हुए नवगठित उत्तर प्रदेश टैनीकोइट एसोसिएशन ने फैसला लिया है कि जल्द ही उत्तर प्रदेश में इस गेम का सेमिनार कराया जाएगा। इस बारे में जानकारी देते हुए उत्तर प्रदेश टैनीकोइट एसोसिएशन के अध्यक्ष जय कुमार सिंह जैकी (कारागार राज्य मंत्री, प्रदेश सरकार) और महासचिव सैयद रफत जुबैर रिजवी ने बताया कि आयोजन के लिए हालत सामान्य होते ही यूपी में टैनीकोइट की राज्य चैंपियनशिप भी कराएंगे ताकि इस खेल से यूपी के खिलाड़ी व खेल प्रेमी परिचित हो सके। 

इसे भी पढ़ें: मेरठ में भारी बारिश से गिरा तापमान, जगह-जगह भरा पानी, मकान भी भरभरा कर गिरे 

इस दौरान उत्तर प्रदेश ओलंपिक एसोसिएशन के महासचिव डा.आनन्देश्वर पाण्डेय ने उत्तर प्रदेश टैनीकोइट एसोसिएशन के पदाधिकारियों को मान्यता प्रमाण पत्र भी प्रदान किया। अध्यक्ष जय कुमार सिंह जैकी ने बताया कि अभी कोरोना प्रोटोकाल के चलते जिन नियमों के चलते आयोजन की अनुमति होगी, उसके अंर्तगत टेक्नीकल सेमिनार और स्टेट चैंपियनशिप की तारीखों की निकट भविष्य में घोषणा की जाएगी।

महासचिव सैयद रफत जुबैर रिजवी ने बताया कि उत्तर प्रदेश टैनीकोइट एसोसिएशन के अध्यक्ष जय कुमार सिंह जैकी (कारागार राज्य मंत्री, प्रदेश सरकार) बनाए गए है। सैयद रफत जुबैर रिजवी महासचिव और कोषाध्यक्ष डा.सुधा बाजपेयी बनाए गए है।

इस मौके पर मौजूद टैनीकोइट फेडरेशन ऑफ इंडिया के महासचिव तेजराज सिंह ने बताया कि अभी हमारी 28 राज्यों में इकाई है। इस खेल की राष्ट्रीय फेडरेशन 1960 में बनी थी और 1979 में इसे केंद्रीय खेल मंत्रालय भारत सरकार से मान्यता मिली थी। उन्होंने इसके साथ ये भी कहा कि इस खेल को वो पहचान नहीं मिल सकी जिसका वो हकदार था। इसलिए फेडरेशन के पुर्नगठन के साथ ही राज्यों में भी इकाईयों का पुर्नगठन किया जा रहा है ताकि इस खेल को गति मिल सके। हमारी नेशनल फेडरेशन को 2002 में भारतीय ओलंपिक संध और और स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया ने 2006 में मान्यता दी थी। 

इसे भी पढ़ें: प्रशासन की आंखें खोलने के लिए संगठन बजा रहा बिगुल: तिसरी आंख 

उन्होंने आगे बताया कि इस खेल की शुरूआत नाविकों द्वारा की गई थी जब वे बड़े-बड़े जहाजों में लकड़ी के गोले, टायर व ट्यूब आदि को फेंक कर खेलते थै। वहीं भारत में टैनीकोइट को रिंग टेनिस या रिंग बॉल के नाम से जाना जाता है। उत्तर प्रदेश ओलंपिक एसोसिएशन के महासचिव डा.आनन्देश्वर पाण्डेय ने इस अवसर पर कहा कि प्रदेश में टैनीकोइट का तेजी से प्रचार हो रहा है और उन्होंने उत्तर प्रदेश टैनीकोइट एसोसिएशन के पदाधिकारियों व खिलाड़ियों को भविष्य के लिए शुभकामना दी।

उत्तर प्रदेश टैनीकोइट एसोसिएशन के पदाधिकारियों की सूची

अध्यक्षः जय कुमार सिंह जैकी

उपाध्यक्ष: प्रवीण कुमार ओझा, निगहत खान, आलोक द्विवेदी, मनीष कक्कड़, विकास शुक्ला

महासचिव: डा. सैयद रफत जुबैर रिजवी

संयुक्त सचिव: रविकांत मिश्रा, दीपक राठी, आनंद पाण्डेय, सुमित कुमार सिंह, अंजनी सिंह, रोशन अग्रवाल

कोषाध्यक्ष: सुधा बाजपेई

पीआरओ: आदित्य कुमार श्रीवास्तव

कार्यकारिणी सदस्य: मो.तौहीद, प्रत्युष रत्न पाण्डेय, राजीव चौधरी





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।