'सबसे ज्यादा भाजपा नेताओं के बने हैं गैर कानूनी घर', आजम खान पर भी खूब बोले अखिलेश यादव

'सबसे ज्यादा भाजपा नेताओं के बने हैं गैर कानूनी घर', आजम खान पर भी खूब बोले अखिलेश यादव
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भाजपा की बुलडोजर नीति की आलोचना करते हुए कहा कि सबसे ज़्यादा अगर गैर क़ानूनी घर किसी के बने हैं तो वह भाजपा के बने हैं। क्या भाजपा अपने घरों पर बुलडोज़र चलाएगी ? थाने में एक बेटी के साथ दुष्कर्म हो गया है क्या थाने में बुलडोज़र चलेगा ?

आजमगढ़। समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव ने बुधवार को योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सबसे ज़्यादा अगर गैर क़ानूनी घर किसी के बने हैं तो वह भाजपा के बने हैं। क्या भाजपा अपने घरों पर बुलडोज़र चलाएगी ? दरअसल, उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में भाजपा की बुलडोजर कार्रवाई का मामला सामने आया है। हाल ही में दिल्ली में भाजपा शासित नगर निगम ने अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाया हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: इलाहाबाद हाईकोर्ट से आजम खान को जमानत, पर अभी भी रहना होगा जेल में, जानें कारण 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भाजपा की बुलडोजर नीति की आलोचना करते हुए कहा कि सबसे ज़्यादा अगर गैर क़ानूनी घर किसी के बने हैं तो वह भाजपा के बने हैं। क्या भाजपा अपने घरों पर बुलडोज़र चलाएगी ? थाने में एक बेटी के साथ दुष्कर्म हो गया है क्या थाने में बुलडोज़र चलेगा ?

जल्द ही बाहर आएंगे आजम खान

इसी बीच सपा प्रमुख ने आजम खान की जमानत के संबंध में भी टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि जिस तरह से हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में बहस पूरी हो चुकी है, बहुत ज़ल्द आज़म ख़ान बाहर आएंगे। सरकार की लगातार कोशिश रही है कि उन पर इतना दबाव हो कि वे जेल से बाहर ही नहीं निकल पाए। हमें उम्मीद है कि उनके साथ न्याय होगा।

इसे भी पढ़ें: आजम खान की जमानत याचिका पर देरी से नाराज सुप्रीम कोर्ट, कहा- यह न्याय के साथ मजाक है  

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने आजम खान की जमानत याचिका के संबंध में उत्तर प्रदेश सरकार को जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है और कहा कि इस पर मंगलवार को सुनवाई होगी। कोर्ट ने कहा कि यह क्या है ? उन्हें जाने क्यों नहीं दिया गया। वह दो साल से जेल में बंद हैं। एक या दो मामलों में ठीक है, लेकिन यह 89 मामलों में नहीं हो सकता है। जब भी उन्हें जमानत मिलती है तो उनको फिर से किसी और प्रकरण में जेल भेज दिया जाता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...