Prabhasakshi Newsroom। हनुमान चालीस को लेकर जमकर हुआ बवाल और फिर थाने में गुजरी राणा दंपत्ति रात

Prabhasakshi Newsroom। हनुमान चालीस को लेकर जमकर हुआ बवाल और फिर थाने में गुजरी राणा दंपत्ति रात
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

मुंबई में शनिवार का दिन हंगामे में गुजर गया और रविवार को राणा दंपत्ति को अदालत के समक्ष पेश किया गया। हालांकि, मुंबई पुलिस जब राणा दंपत्ति के घर पहुंची तो नवनीत राणा ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर वीडियो साझा किया और भाजपा नेताओं से मदद की गुहार लगाई।

महाराष्ट्र में हनुमान चालीस और लाउडस्पीकर मामले को लेकर राजनीति गर्मायी हुई है। अमरावती के निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा को मुंबई पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया और दिनभर हंगामा हुआ। इतना ही नहीं नवनीत राणा ने भाजपा नेताओं से मदद की अपील की। आपको बता दें कि राणा दंपत्ति के खिलाफ अपने बयानों से धर्म, जाति के आधार पर विद्वेष फैलाने का आरोप है और इस संबंध में उनके खिलाफ एक और एफआईआर दर्ज की गई है। 

इसे भी पढ़ें: 'शिवसेना कार्यकर्ताओं ने मुझ पर हमला किया, मुझे मारने की कोशिश की'- भाजपा नेता किरीट सोमैया का बड़ा बयान 

क्या है पूरा मामला ?

नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा ने मातोश्री के बाहर हुनमान चालीसा पढ़ने का ऐलान किया था। जिसको लेकर शिवसैनिक उनके घर के नीचे एकत्रित हो गए। हालांकि नवनीत राणा अपने घर से बाहर नहीं निकलीं और मातोश्री में हनुमान चलीसा के पाठ को लेकर यूटर्न भी ले लिया। इस संबंध में उन्होंने कहा था कि मुझे लगता है कि मेरा उद्देश्य स्पष्ट तरीके से पूरा हो गया। हम मातोश्री तक नहीं पहुंच पाए परन्तु जो हनुमान चालीसा हम करने वाले थे, वो कई भक्त वहां मातोश्री के सामने हनुमान चालीसा पढ़ रहे हैं। कहीं न कहीं ये सिद्ध होता है कि हमारी आवाज़ वहां तक पहुंची है।

मुंबई में शनिवार का दिन हंगामे में गुजर गया और रविवार को राणा दंपत्ति को अदालत के समक्ष पेश किया गया। हालांकि, मुंबई पुलिस जब राणा दंपत्ति के घर पहुंची तो नवनीत राणा ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर वीडियो साझा किया और भाजपा नेताओं से मदद की गुहार लगाई।

उन्होंने कहा था कि हमने अभी तक सहयोग किया है। उन्होंने हमें घर से निकलने के लिए मना किया तो हम नहीं निकले। अब बिना वारंट के गिरफ्तार करने आए हैं तो हम नहीं जाएंगे। इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया था कि घर के बाहर खड़े शिवसैनिकों पर कार्रवाई नहीं हो रही है। हम लोगों पर कार्रवाई हो रही है, जिन्होंने सभी नियम माने हैं। अगर हमे गिरफ्तार किया गया तो हम जमानत भी नहीं लेंगे, लोगों को इनके अत्याचार को देखने देंगे। 

इसे भी पढ़ें: मुंबई पुलिस ने नवनीत राणा और उनके विधायक पति को किया गिरफ्तार, अमरावती सांसद ने भाजपा नेताओं से मांगी मदद

राणा दंपत्ति पर विद्वेष फैलाने का आरोप

मुंबई पुलिस ने बताया कि निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा को अलग-अलग समूहों के बीच विद्वेष फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। खार पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बताया कि राणा दंपत्ति को रात में सांताक्रूज पुलिस हवालात में भेजा गया था। इससे पहले राणा दंपति के खिलाफ आईपीसी की धारा- 153 ए और मुंबई पुलिस अधिनियम की धारा-135 का मामला दर्ज किया गया।

आपको बता दें कि राणा दंपत्ति के खिलाफ एक और एफआईआर दर्ज की गई है। जिसके तहत उन पर सरकारी अधिकारी को कर्तव्यों का निर्वहन करने से रोकने के लिए आपराधिक बल के इस्तेमाल संबंधी धारा जोड़ी गई है।

किरीट सोमैया की कार पर हमला

भाजपा नेता किरीट सोमैया जब शनिवार रात मुंबई में खार पुलिस थाने से लौट रहे थे, तब उनकी एसयूवी पर शिवसेना कार्यकर्ताओं ने जूते और पानी की बोतलें फेंकीं। सोमैया निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा से मिलने पुलिस थाने गए थे। भाजपा नेता ने ट्वीट कर जानकारी साझा की और कहा कि शिवसेना के गुंडों द्वारा किए गए हमले में चोटिल हो गए हैं और उन्होंने इसकी शिकायत बांद्रा पुलिस थाने में दर्ज कराई है।

इस संबंध में पुलिस का भी बयान सामने आया। मुंबई पुलिस ने बताया कि किरीट सोमैया की कार पर कथित हमले को लेकर एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। एक अधिकारी ने बताया कि किरीट सोमैया ने एफआईआर की प्रति लेने से इनकार कर दिया क्योंकि वह मामले में पुलिस द्वारा लगाई गई धाराओं से संतुष्ट नहीं थे। 

इसे भी पढ़ें: राणा मामले को लेकर उद्धव सरकार पर बरसे देवेंद्र फडणवीस, बोले- रास्ते में जाने वाले हर व्यक्ति पर हमला करना कौन सी राजनीति है ?

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के आवास मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने के राणा दंपत्ति के आह्वान ने शिवसेना समर्थकों को आक्रोशित कर दिया था। ऐसे में पुलिस थाने के बाहर एकत्र हुए शिवसेना समर्थकों ने किरीट सोमैया के दौरे के खिलाफ प्रदर्शन किया और नारेबाजी की।

संजय राउत की चेतावनी

इस संबंध को लेकर शिवसेना और भाजपा आमने-सामने दिखाई दी। एक के बाद एक बयान सामने आते रहे। जहां संजय राउत का एक बयान सामने आया जिसने सभी को चौंका दिया तो भाजपा ने कानून व्यवस्था की स्थिति पर सवाल खड़ा किया। संजय राउत ने शिवसेना और मातोश्री से न उलझने की सलाह देते हुए कहा था कि मैं यह कहना चाहता हूं कि शिवसेना और मातोश्री से न उलझें, आपको 20 फीट गहरा गाड़ दिया जाएगा। मैं यह कैमरा के सामने कह रहा हूं, शिवसेना के सब्र का इम्तिहान मत लो। राणा दंपत्ति की गिरफ्तारी को लेकर उनके वकील का बयान भी सामने आया। जिसमें उन्होंने गिरफ्तारी को अवैध ठहराया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।