मुख्तार अब्बास नकवी बोले, प्रधानमंत्री मोदी ने ‘परिवार की परिक्रमा पॉलिटिक्स’ को परास्त किया

Mukhtar Abbas Naqvi
creative common
नकवी ने कहा कि देश को संकट से बाहर निकालकर, ग़रीबों के आत्मविश्वास को ताकत, देश की समृद्धि, सुरक्षा, सम्मान मोदी की राष्ट्रनीति का नतीजा है। नकवी ने कहा कि श्री मोदी, भारतीय राजनीति के 'शुद्धीकरण के संत' साबित हुए हैं, जिन्होंने 'परिश्रम की पराकाष्ठा' और 'सुधार के संकल्प' से सियासत को संकीर्णता, सामन्ती सनक और स्वार्थ के संकट से बाहर निकाला है।

बिजनौर। वरिष्ठ भाजपा नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आज यहां कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कामयाबी "पानी का बुलबुला नहीं, परिश्रम का सिला है"। आज नजीबाबाद, बिजनौर में दरगाह नजफे हिन्द में जियारत के बाद नकवी ने कहा कि पीएम मोदी ने "परिश्रम के परिणाम" से "परिवार की परिक्रमा पॉलिटिक्स" को परास्त किया है। नकवी ने कहा कि सियासत, "परिवार की विरासत के पालने" से बाहर निकल कर, ग़रीबों के चौके, चूल्हे, चौखट के सरोकार की प्राथमिकता बन गई है। हिंदुस्तान का यह बदलाव मोदी के "परिश्रम का परिणाम, तपस्या की ताकत" का नतीजा है।

इसे भी पढ़ें: प्लेटफॉर्म पर सोती मां का बच्चा चोरी करने के वाला पकड़ा गया, बीजेपी नेता सहित 8 लोग गिरफ्तार

नकवी ने कहा कि देश को संकट से बाहर निकालकर, ग़रीबों के आत्मविश्वास को ताकत, देश की समृद्धि, सुरक्षा, सम्मान मोदी की राष्ट्रनीति का नतीजा है। नकवी ने कहा कि श्री मोदी, भारतीय राजनीति के "शुद्धीकरण के संत" साबित हुए हैं, जिन्होंने "परिश्रम की पराकाष्ठा" और "सुधार के संकल्प" से सियासत को संकीर्णता, सामन्ती सनक और स्वार्थ के संकट से बाहर निकाला है। नकवी ने कहा कि श्री मोदी के नेतृत्व में " डेमोक्रेटिक संस्कार", "डायनेस्टिक अहंकार" को पछाड़ कर "एक भारत श्रेष्ठ भारत" के सफल सफर को सार्थक कर रहा है। नकवी ने कहा कि "गुनाहों की गठरी" पर "पाप के पैबंद का पराक्रम" पिट चुका है। कांग्रेस "मुल्क की पार्टी से मोहल्ले की महंगी" हो गई है, जिसका अन्दर कोई मोल नहीं, बाहर कोई भाव नहीं।

अन्य न्यूज़