मुनव्वर राना ने शेयर की योगी की मां के साथ की फोटो, लिखा- इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊं

yogi with his mother
अंकित सिंह । May 05, 2022 3:04PM
मुनव्वर राना जाने-माने शायर हैं जो योगी आदित्यनाथ के मुखर आलोचकों में से एक माने जाते हैं। माना जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ के लिए मुनव्वर राना ने शायरी लिखकर कोई बड़ा संदेश दिया है। चुनाव से पहले मुनव्वर राना ने कहा था कि अगर उत्तर प्रदेश में दोबारा योगी आदित्यनाथ की सरकार बनती है तो वह राज्य छोड़ देंगे।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इन दिनों उत्तराखंड के दौरे पर है। योगी आदित्यनाथ 28 साल बाद उत्तराखंड में अपने पैतृक गांव पहुंचे थे जहां उन्होंने अपनी मां से मुलाकात की थी। योगी आदित्यनाथ ने इसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर भी साझा की थी। इन सबके बीच योगी आदित्यनाथ की इस तस्वीर को लेकर मुनव्वर राना ने बेहद ही भावुक पंक्तियां लिखी हैं। मुनव्वर राना ने लिखा कि मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ, माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊं।

आपको बता दें कि मुनव्वर राना जाने-माने शायर हैं जो योगी आदित्यनाथ के मुखर आलोचकों में से एक माने जाते हैं। माना जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ के लिए मुनव्वर राना ने शायरी लिखकर कोई बड़ा संदेश दिया है। चुनाव से पहले मुनव्वर राना ने कहा था कि अगर उत्तर प्रदेश में दोबारा योगी आदित्यनाथ की सरकार बनती है तो वह राज्य छोड़ देंगे। इसके बाद मुनव्वर राना की खूब आलोचना हुई थी। अब जब मुनव्वर राना ने इतनी भावुक शायरी को साझा किया है तो इसके अलग अलग मायने भी निकाले जा रहे हैं। मुनव्वर राना यूपी चुनाव 2022 के दौरान योगी आदित्यनाथ और भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था।

इसे भी पढ़ें: भतीजे से अलग होंगे चाचा के रास्ते, शिवपाल करेंगे प्रसपा का पुनर्गठन, सरकार के समक्ष रखेंगे जनता की परेशानियां

मुनव्वर राना ने दावा किया था कि उत्तर प्रदेश के हालात ठीक नहीं है। अगर इस बार फिर से योगी आदित्यनाथ की सरकार बनती है तो वह पलायन कर लेंगे। राना ने दावा किया था कि जनता असल मुद्दों पर गौर करके वोट डालेगी। यूपी चुनाव से जिन्ना-पाकिस्तान का क्या लेना देना? इससे किसी पार्टी को कुछ भी हासिल नहीं होगा। तंज भरे लहजे में कहा था कि अभी हम बोलेंगे कि हम 'आराम' कर रहे हैं तो यह बोलने लगेंगे कि हमारे 'राम' में आप 'आ' क्यों रहे हैं। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़