मुरैना जिला जेल में हत्या के आरोपी की मौत, परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप

मुरैना जिला जेल में हत्या के आरोपी की मौत, परिजनों ने लगाए गंभीर आरोप

मृतक के बेटे मोहन गिरि का कहना है कि उसके पिता को शुगर व अन्य बीमारियां थी। इसके इलाज के लिए जेल के कर्मचारी कई बार उससे हजारों रुपये ले चुके हैं, लेकिन बीमार पिता का इलाज नहीं करवाया। परिजनों के हंगामे के बाद जेल प्रशासन ने मामले की जांच की बात कही है।

मुरैना। मध्य प्रदेश में मुरैना की जिला जेल में बंद हत्या के एक आरोपित की बीती रात अचानक तबियत बिगड़ गई। जेल कर्मी उसे तत्काल अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां उसकी मौत हो गई। सूचना मिलने पर कैदी के परिजन भी अस्पताल पहुंच गए और जमकर हंगामा किया। परिजनों ने जेल प्रशासन पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं। 

इसे भी पढ़ें: इंदौर में आठवें दिन लगातार कोरोना के 500 से अधिक मामले, अब तक 756 लोगों की हुई मौत

जानकारी के मुताबिक, ग्वालियर जिले के बिजौली थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम भेलाकलां निवासी 50 वर्षीय विजय गिरि पुत्र शिव गिरि पर 2017 में मुरैना जिले के बानमोर थाने में हत्या, हत्या के प्रयास, बलवा की धाराओं में मामला दर्ज हुआ था। इसी मामले में बानमोर थाना पुलिस ने उसे 20 जनवरी 2020 को गिरफ्तार किया था और अदालत में पेश कर उसे मुरैना जेल भेज दिया गया था। बताया जा रहा है कि शनिवार की रात एक बजे के करीब विजय गिरी की तबियत बिगड़ गई। उसे जेल के कर्मचारी अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां इलाज शुरू होने से पहले ही उसकी मौत हो गई। 

इसे भी पढ़ें: खरगौन पुलिस ने अवैध मादक पदार्थ सहित एक आरोपित को किया गिरफ्तार, एक लाख से अधिक का गांजा बरामद

वही रविवार सुबह सूचना मिलने पर परिजन अस्पताल पहुंच गए और जेल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे। मृतक के बेटे मोहन गिरि का कहना है कि उसके पिता को शुगर व अन्य बीमारियां थी। इसके इलाज के लिए जेल के कर्मचारी कई बार उससे हजारों रुपये ले चुके हैं, लेकिन बीमार पिता का इलाज नहीं करवाया। परिजनों के हंगामे के बाद जेल प्रशासन ने मामले की जांच की बात कही है। पुलिस टीम भी अस्पताल पहुंच गई और मामले की जांच शुरू कर दी है। जबकि इस मामले में जेलर अश्विनी कुमार शुक्ला का कहना है कि कैदी विजय गिरि काफी समय से बीमार था। रात में भी उसे इलाज के लिए अस्पताल ले गए जहां उसकी मौत हुई है। परिजन जो आरोप लगा रहे हैं उसकी जानकारी नहीं। मामले की जांच कराई जा रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।