नड्डा ने राहुल पर साधा निशाना, चीन और किसान से जुड़े मुद्दों पर भ्रम फैलाने का लगाया आरोप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 19, 2021   14:51
  • Like
नड्डा ने राहुल पर साधा निशाना, चीन और किसान से जुड़े मुद्दों पर भ्रम फैलाने का लगाया आरोप

नड्डा ने आरोप लगाया कि कृषि मंडियों को लेकर राहुल गांधी लगातार झूठ फैला रहे हैं कि उन्हें खत्म कर दिया जाएगा। उन्होंने पूछा कि क्या कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में इस बारे में वादा नहीं किया था।

नयी दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मंगलवार को पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए चीन, कृषि कानूनों और कोविड-19 के मुद्दों पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया। चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश में एक गांव बनाने संबंधी खबरों का हवाला देते हुए राहुल गांधी ने राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार पर सवाल उठाए थे। नड्डा ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ‘‘राहुल गांधी, उनका परिवार और कांग्रेस कब चीन पर झूठ बोलना बंद करेगी? क्या वह इस बात से इंकार कर सकते हैं कि अरुणाचल प्रदेश की जिस जमीन का वह जिक्र कर रहे हैं, वहां सहित हजारों किलोमीटर जमीन चीन को किसी और ने नहीं बल्कि पंडित नेहरू ने भेंट कर दी थी? कांग्रेस चीन के समक्ष अक्सर क्यों घुटने टेक देती है?’’

भाजपा अध्यक्ष ने राहुल गांधी पर किसानों को ‘‘उकसाने और गुमराह’’ करने का आरोप लगाते हुए पूछा कि कांग्रेस-नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को सालों तक क्यों अटका रखा था और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) भी नहीं बढ़ाया। उन्होंने पूछा, ‘‘कांग्रेस की सरकारों के दौरान किसान दशकों तक गरीब क्यों रहा? जब वह विपक्ष में होते हैं तभी क्या उन्हें किसानों के प्रति सहानुभूति महसूस होती है।’’ नड्डा ने कहा कि अब चूंकि राहुल गांधी अपनी ‘‘मासिक छुट्टी’’ से लौट आए हैं, वह उनसे कुछ सवाल पूछना चाहते हैं। उन्होंने पूछा, ‘‘क्या राहुल गांधी का चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और चीन से समझौता पत्र रद्द करने का कोई इरादा है? ’’क्या वह अपने परिवार नियंत्रित न्यासों को चीन से मिले उदार दानों को वापस करने का इरादा रखते हैं? या उनकी नीतियां और परिपाटियां चीनी पैसों और समझौता पत्र से शासित होती रहेंगी? 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव एक बार फिर मोदी के नाम पर लड़ सकती है भाजपा

भाजपा अध्यक्ष ने पूछा, ‘‘राहुल गांधी ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में देश को हतोत्साहित करने का कोई मौका नहीं छोड़ा। आज जब भारत में सबसे कम मामले हैं और हमारे वैज्ञानिकों ने टीके इजाद कर लिए हैं तो उन्होंने वैज्ञानिकों को अब तक बधाई क्यों नहीं दी और 130 करोड़ भारतीयों की एक बार भी प्रशंसा क्यों नहीं की।’’ नड्डा ने आरोप लगाया कि कृषि मंडियों को लेकर राहुल गांधी लगातार झूठ फैला रहे हैं कि उन्हें खत्म कर दिया जाएगा। उन्होंने पूछा कि क्या कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में इस बारे में वादा नहीं किया था। उन्होंने पूछा क्या इससे कृषि मंडिया खत्म नहीं हो जाती? उन्होंने कहा, ‘‘राहुल गांधी ने तमिलनाडु में जल्लीकट्टू का आनंद उठाया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


पीएनबी घोटाला मामला: ब्रिटिश कोर्ट ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को दी मंजूरी, भारत लाया जाएगा

  •  अंकित सिंह
  •  फरवरी 25, 2021   16:35
  • Like
पीएनबी घोटाला मामला: ब्रिटिश कोर्ट ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को दी मंजूरी, भारत लाया जाएगा

नीरव मोदी फिलहाल लंदन की एक जेल में बंद है। मजिस्ट्रेट की अदालत के फैसले को इसके बाद ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल के पास हस्ताक्षर के लिये भेजा जाएगा।

लंदन। पंजाब नेशनल बैंक से करीब दो अरब डॉलर की धोखाधड़ी के मामले में वांछित हीरा कारोबारी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण पर लंदन की एक अदालत ने अपना फैसला सुनाया। आज की सुनवाई में ब्रिटेन प्रत्यर्पण न्यायाधीश ने नीरव मोदी को मुकदमा चलाने के लिए भारत को प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया। नीरव मोदी फिलहाल लंदन की एक जेल में बंद है। मजिस्ट्रेट की अदालत के फैसले को इसके बाद ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल के पास हस्ताक्षर के लिये भेजा जाएगा।

नीरव मोदी को प्रत्यर्पण वारंट पर 19 मार्च 2019 को गिरफ्तार किया गया था और प्रत्यर्पण मामले के सिलसिले में हुई कई सुनवाइयों के दौरान वह वॉन्ड्सवर्थ जेल से वीडियो लिंक के जरिये शामिल हुआ था। जमानत को लेकर उसके कई प्रयास मजिस्ट्रेट अदालत और उच्च न्यायालय में खारिज हो चुके हैं क्योंकि उसके फरार होने का जोखिम है। उसे भारत में सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दर्ज मामलों के तहत आपराधिक कार्यवाही का सामना करना होगा। इसके अलावा कुछ अन्य मामले भी उसके खिलाफ भारत में दर्ज हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


दिल्ली में प्रभावित होगी जलापूर्ति, बढ़ सकती है आम लोगों की परेशानी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   16:28
  • Like
दिल्ली में प्रभावित होगी जलापूर्ति, बढ़ सकती है आम लोगों की परेशानी

चड्ढा ने कहा कि दिल्ली सरकार इस मुद्दे पर लगातार केंद्र सरकार के संपर्क में है और उम्मीद है कि यह आसन्न संकट टल जाएगा। दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने जल शक्ति मंत्रालय से इस मुद्दे पर चर्चा के लिये सभी पक्षकारों की बैठक बुलाने का भी अनुरोध किया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली में करीब 25 प्रतिशत पानी की आपूर्ति करने वाली नंगल हाइडल नहर को मरम्मत के लिये एक महीने तक बंद किया जा रहा है जिससे राष्ट्रीय राजधानी को अभूतपूर्व जल संकत और कानून-व्यवस्था की स्थिति का भी सामना करना पड़ सकता है। दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने बृहस्पतिवार को यह बात कही। चड्ढा ने कहा कि मरम्मत कार्य को स्थगित करने के लिये केंद्र सरकार को एक पत्र लिखा गया है।

उन्होंने कहा, “नहर को अचानक बंद करने से ब्यास नदी से दिल्ली को प्रतिदिन होने वाली 23.2 करोड़ गैलन (एमजीडी) पानी की आपूर्ति मार्च-अप्रैल में प्रभावित होगी। यह दिल्ली में आपूर्ति होने वाले कुल पानी का 25 प्रतिशत है और इससे अभूतपूर्व जल संकट और कानून-व्यवस्था की स्थिति बन सकती है।” चड्ढा ने कहा कि दिल्ली सरकार इस मुद्दे पर लगातार केंद्र सरकार के संपर्क में है और उम्मीद है कि यह आसन्न संकट टल जाएगा। दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष ने कहा कि उन्होंने जल शक्ति मंत्रालय से इस मुद्दे पर चर्चा के लिये सभी पक्षकारों की बैठक बुलाने का भी अनुरोध किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


डॉ अशोक तंवर ने लॉन्च किया अपना भारत मोर्चा, बोले- मौन आवाम की बनेगा आवाज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   16:24
  • Like
डॉ अशोक तंवर ने लॉन्च किया अपना भारत मोर्चा, बोले- मौन आवाम की बनेगा आवाज

डाॅ तंवर ने कहा कि अफसोस की बात है कि हमारा देश एक निराशा के माहौल में फंसा हुआ है। युवाओं को और उनकी आकांक्षाओं को आपराधिक तरीके से अनदेखा किया जा रहा है।

जींद। (प्रेस विज्ञप्ति) आज भारत अव्यवस्था, भ्रम और अभूतपूर्व सामाजिक-राजनीतिक एवं पहचान संकट के चैराहे पर खड़ा है। ऐसे में, आज अपना भारत मोर्चा (एबीएम) के लांच के साथ एक ऐसे भारत के निर्माण की शुरुआत हो रही है जो लोचदार है और सभी पहलुओं पर समावेशी है, यहां गुरुवार को डॉ अशोक तंवर ने कहा। 

इसे भी पढ़ें: खट्टर के खिलाफ अविश्वास से बढ़ेगा ED के शिकंजे में फंसे हुड्डा का विश्वास 

सिरसा, हरियाणा के पूर्व सांसद डॉ तंवर ने कहा, “अपना भारत मोर्चा मूल्यों पर आधारित एक पहल है और इसके तीन स्तंभ हैं- संवाद, बहस और चर्चा। यह मोर्चा न केवल अनेकता में एकता के भारतीय मूल्यों को बल देगा बल्कि हमारे देश को आशाओं और पूर्तियों की धरती बनाने की दिशा में एक आधारशिला के तौर पर काम भी करेगा।“

गुरुवार को काॅन्स्टीट्यूशन क्लब में अपना भारत मोर्चा का लांच कार्यक्रम हुआ। बड़ी तादाद में युवाओं और समान सोच रखने वाले अन्य लीडरों ने इस कार्यक्रम में शिरकत की जिनमें त्रिपुरा पीसीसी के पूर्व अध्यक्ष किरीट प्रद्योत देब बर्मन भी शामिल थे। यह लांच कार्यक्रम सोशल मीडिया प्लैटफाॅम्र्स के जरिए लाइव स्ट्रीम किया गया। हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड, राजस्थान, चंडीगढ़, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, बिहार, गुजरात और ओडिशा से बड़ी संख्या में इस लांच कार्यक्रम में ऑनलाइन शामिल हुए। 

इसे भी पढ़ें: हरियाणा सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी कांग्रेस: भूपेन्द्र सिंह हुड्डा 

अपना भारत मोर्चा के लांच की जरूरत पर प्रकाश डालते हुए डाॅ तंवर ने कहा कि अफसोस की बात है कि हमारा देश एक निराशा के माहौल में फंसा हुआ है। युवाओं को और उनकी आकांक्षाओं को आपराधिक तरीके से अनदेखा किया जा रहा है। सकारात्मक ऊर्जाओं को संगठित व स्पष्ट करने के लिए एक मंच की आवश्यकता थी ताकि युवाओं की आकांक्षाओं की वृद्धि एवं पूर्ति हो सके; क्योंकि युवा पीढ़ी ही राष्ट्र की रीढ़ है।’’

डाॅ तंवर ने कहा कि अपना भारत मोर्चा सकारात्मक बदलावों के एक प्रतिनिधि के तौर पर काम करेगा और मौन आवाम की आवाज़ बनेगा। यह एक गतिशील, मूल्य-आधारित मंच होगा, यह विविध स्वरों और दृष्टिकोणों को एकजुट करेगा, जिन्हें मुख्यधारा के राजनीतिक दलों द्वारा अनदेखा किया जा रहा है। यह मोर्चा वर्तमान नेतृत्व की उदासीनता और विचारधाराओं के उत्पीड़न के खिलाफ एक आंदोलन है। 

इसे भी पढ़ें: भाकयू नेता जसतेज सिंह संधू पर बाइक सवार हमलावरों ने चलाई गोली, बाल-बाल बची जान 

पूर्व सांसद डाॅ अशोक तंवर ने यह भी कहा, ’’हम देश के समग्र एवं समावेशी विकास पर ध्यान केन्द्रित करेंगे। हमारा नारा है ’नई सोच, नई दिशा, और नई राजनीति’। मेरा दृढ़ विश्वास है कि भारत सिर्फ अपनी मिश्रित संस्कृति को अपना कर ही दूसरे देशों के लिए उदाहरण बन सकता है। हम देशभक्ति में यकीन करते हैं लेकिन संकीर्ण राष्ट्रवाद में नहीं, जो हमारे अपने ही लोगों को जाति, धर्म व प्रदेश के आधार पर विभाजित करे।’’

डाॅ तंवर ने कहा कि अपने संकल्प को दोहराते और अपना भारत मोर्चा के विज़न डाॅक्यूमेंट का विमोचन करते हुए डाॅ तंवर ने कहा कि यह प्रगतिशील, जनतांत्रिक, उदार और तार्किक स्वरों का मंच है। ’’हम कैपिटल में विश्वास करते हैं क्रोनी कैपिटलिज़्म में नहीं। हम अवसरों में यकीन करते हैं, अवसरवादिता में नहीं। हम किसी जाति के खिलाफ नहीं, जातिवाद के खिलाफ हैं। हम आत्म सम्मान एवं मर्यादा की राजनीति में विश्वास रखते हैं। राजनीति में नकारातमक तात्पर्य नहीं होने चाहिए। अपना भारत मोर्चा सभी स्टेकहोल्डरों के लिए सही मायनों में मूल्य आधारित मोर्चा होने जा रहा है, जो एक समावेशी भारत के निर्माण की कामना करते हैं और उसके लिए प्रतिबद्ध हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept