नवाब मलिक ने ईडी की हिरासत में बिताई रात, एमवीए नेताओं का विरोध प्रदर्शन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2022   11:49
नवाब मलिक ने ईडी की हिरासत में बिताई रात, एमवीए नेताओं का विरोध प्रदर्शन

महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (एमवीए) के मंत्री और विधायक नवाब मलिक की गिरफ्तारी के खिलाफ बृहस्पतिवार को धरना प्रदर्शन करेंगे। धन शोधन के एक मामले में गिरफ्तार नवाब मलिक रात भर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में थे।

मुंबई। महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (एमवीए) के मंत्री और विधायक नवाब मलिक की गिरफ्तारी के खिलाफ बृहस्पतिवार को धरना प्रदर्शन करेंगे। धन शोधन के एक मामले में गिरफ्तार नवाब मलिक रात भर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में थे। ईडी ने महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक कार्य मंत्री नवाब मलिक को धनशोधन के एक मामले की जांच के सिलसिले में बुधवार को गिरफ्तार कर लिया था।

इसे भी पढ़ें: रूस ने दागे यूक्रेन पर सिलसिलेवार बम, दुनिया पर छाया मंदी का साया, कड़ी अलोचना कर रहे हैं कई देश

इसके बाद मलिक को धनशोधन मामलों की सुनवाई करने वाली एक विशेष अदालत के समक्ष पेश किया गया, जिसने उन्हें तीन मार्च तक के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में भेज दिया। मलिक को धनशोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) से संबद्ध मामलों की सुनवाई करने वाले विशेष न्यायाधीश आर एन रोकड़े के अदालत कक्ष में पेश किया गया। न्यायाधीश ने उन्हें मामले में आगे की जांच के लिए तीन मार्च तक ईडी की हिरासत में भेज दिया।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी बोले- कृषि और ग्राम जीवन परिवर्तन का एक बहुत बड़ा साधन बन सकता है बजट

ईडी का कहना है कि यह जांच, भगोड़े गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम, उसके सहयोगियों आौर मुंबई अंडरवर्ल्ड की गतिविधियों से संबंधित है। इससे पहले राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता मलिक (62) से दक्षिण मुंबई के बलार्ड एस्टेट इलाके में ईडी के दफ्तर में करीब छह घंटे तक पूछताछ की गई। महाराष्ट्र सरकार के मंत्री बृहस्पतिवार सुबह दक्षिण मुंबई में स्थित राज्य सचिवालय, मंत्रालय के पास एक विरोध प्रदर्शन में भाग लेंगे। इसके बाद 25 फरवरी से तीनों एमवीए दलों के कार्यकर्ता राज्यभर में मोर्चा निकालेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।