बिहार में बड़ा खेल हो गया! नितिन के कार्यक्रम से नीतीश आउट, राजद को मिला निमंत्रण

बिहार में बड़ा खेल हो गया! नितिन के कार्यक्रम से नीतीश आउट, राजद को मिला निमंत्रण
Creative Common

दोपहर एक बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी बिहार के भोजपुर में कोइलवार ब्रिज के 3-लेन (डाउनस्ट्रीम) का उद्घाटन कार्यक्रम से जुड़े।

केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने आज बिहार के भोजपुर में कोइलवार ब्रिज के 3-लेन (डाउनस्ट्रीम) का उद्घाटन किया। दोपहर एक बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी इस कार्यक्रम से जुड़े। इस कार्यक्रम को लेकर दूर दूर तक पोस्टर लगाए गए थे। लेकिन हैरानी की बात ये रही कि न तो इस पोस्टर में नीतीश कुमार की तस्वीर दिखी और न ही उनका नाम। ये खबर खूब चर्चा में रही कि बिहार में आयोजित इस सरकारी कार्यक्रम में नीतीश कुमार को बुलाया ही नहीं गया है। 

इसे भी पढ़ें: तेज रफ्तार ट्रक ने मोटरसाईकिल को मारी तेज टक्कर, तीन भाइयों की मौके पर मौत

इस कार्यक्रम के पोस्टर में कई नेताओं की तस्वीर नजर आई। लेकिन इससे नीतीश की तस्वीर गायब रही। इस पोस्टर में पीएम मोदी, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री और आरा से सांसद आरके सिंह भी हैं और बीजपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी व  बिहार के पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन के साथ प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल की तस्वीर भी चस्पा थी। लेकिन नीतीश का चेहरा गायब है। पूरे मामले पर जेडीयू की तरफ से कहा गया कि ये बीजेपी का कार्यक्रम है। 

इसे भी पढ़ें: यूपी-बिहार तो यूं ही है बदनाम, पूरे भारत में सबसे ज्यादा इस प्रदेश में है जातिवाद की राजनीति का बोलबाला

लेकिन ये कोई पहला मौका नहीं है जब किसी बात को लेकर दोनों दल आमने-सामने आए हैं। इससे पहले भी दोनों दल एक-दूसरे पर आरोप लगाते रहे हैं। सबसे दिलचस्प बात ये है कि आरजेडी विधायक किरण देवी और आरजेडी के नेता भाई विरेंद्र को इस कार्यक्रम में बुलाया गया। हालांकि कुछ रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की पत्नी की शनिवार को ही पुण्यतिथि है. ऐसे में वह नालंदा के कल्याण बिगहा गए हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।