NRC पर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री अलग-अलग बात बोल रहे हैं: गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2020   20:10
NRC पर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री अलग-अलग बात बोल रहे हैं: गहलोत

अशोक गहलोत ने यहां संवाददाताओं से कहा,“प्रधानमंत्री कहते हैं कि एनआरसी की चर्चा ही नहीं हुई है... कांग्रेस नौजवानों को भटका रही है, भड़का रही है। वहीं गृहमंत्री अमित शाह कहते हैं मैं पूरे मुल्क में एनआरसी लागू करके रहूंगा। संसद के अंदर भी कहा, बाहर भी कहा।”

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को यहां कहा कि राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर प्रधानमंत्री व गृहमंत्री अलग-अलग बातें कह रहे हैं, जिससे पूरा देश चिंतित है। गहलोत ने यहां संवाददाताओं से कहा,“प्रधानमंत्री कहते हैं कि एनआरसी की चर्चा ही नहीं हुई है... कांग्रेस नौजवानों को भटका रही है, भड़का रही है। वहीं गृहमंत्री अमित शाह कहते हैं मैं पूरे मुल्क में एनआरसी लागू करके रहूंगा। संसद के अंदर भी कहा, बाहर भी कहा।”

इसे भी पढ़ें: ग्वार गम के निर्यात में आ रही बाधाओं को दूर करे केंद्र: गहलोत

उन्होंने आगे कहा, “ये देश बहुत चिंतित है कि प्रधानमंत्री के मुंह से क्या बात निकल रही है, उनके गृहमंत्री क्या कह रहे हैं, ये देश के लिए चिंता का विषय बन गया है।” गहलोत ने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व “उनके सिपहसलाहकार” अमित शाह का मुकाबला कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस नेता शमशेर सुरजेवाला का निधन, राहुल और कई नेताओं ने दुख जताया

उल्लेखनीय है कि देश के ज्वलंत मुद्दों पर केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए राहुल 28 जनवरी को जयपुर में एक रैली कर रहे हैं। गहलोत ने इसकी तैयारियों का जायजा लिया और कहा कि यह रैली छात्र व युवाओं को आगे रखकर हो रही है। जेपी नड्डा के भाजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने पर गहलोत ने कहा, “हमें तो (भाजपा नेता) ओम माथुर से मतलब है, जो हमारे राजस्थान के हैं। ओम माथुर प्रभारी रहे हैं गुजरात के, उनका भी हक बनता था।”





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।