मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढकर हुई 66, इंदौर में 44 कोरोना पॉजिटिव

मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढकर हुई 66, इंदौर में 44 कोरोना पॉजिटिव

कोरोना संक्रमितों की संख्या 47 से बढ़कर 66 हो गई है। जिसमें सबसे अधिक कोरोना पॉजिटिव इंदौर जिले में मिले है जिनकी संख्या 44 है। दूसरे नंबर पर जबलपुर में 08, उज्जैन में 06 और राजधानी भोपाल में 04 कोरोना पॉजिटिव चिंहित किए गए है।

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा मंगलवार को मीडिया बुलेटन के अनुसार कोरोना संक्रमितों की संख्या  47 से बढ़कर 66 हो गई है। जिसमें सबसे अधिक कोरोना पॉजिटिव इंदौर जिले में मिले है जिनकी संख्या 44 है। दूसरे नंबर पर जबलपुर में 08, उज्जैन में 06 और राजधानी भोपाल में 04 कोरोना पॉजिटिव चिंहित किए गए है। जबकि ग्वालियर और शिवपुरी में 02-02 कोरोना पॉजिटिव मिले है। जिसके बाद संभावित मरीजों की संख्या को देखते हुए इंदौर में 17, जबलपुर में 06, भोपाल, उज्जैन, ग्वालियर और शिवपुरी में 02-02 नियंत्रण क्षेत्र चिंहित कर उन्हें कन्टेनमेंट के अंदर ले आया गया है। 

इसे भी पढ़ें: PMCARES में योगदान देने वालों का मोदी ने जताया आभार, कहा- सामूहिक ताकत दिलायेगी जीत

वही होम कोरोंटाईन में रखे गए संभावित मरीजों की निगरानी फिल्ड कर्मचारी एववं मेप आईटी द्वारा तैयार किए गए सार्थक एप द्वारा की जा रही है। कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखते हुए सरकार ने शासकीय एवं निजि चिकित्सा महाविद्यालयों में आईसीयू बेड एवं वेन्टीलेटर की व्यवस्था की गई है। जिसमें पाँच शासकीय चिकित्सा महाविद्यालयों भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर, रीवा एवं सागर में 394 आईसीयू बेड तथा 319 वेन्टीलेटरों की व्यवस्था है। जबकि 08 निजि महाविद्यालयों में 418 आईसीयू बेड और 132 वेन्टीलेटर की व्यवस्था है। इसके अलावा अभी तक चिंहित निजि क्षेत्र के 107 अस्पतालों में 276 आइसोलेशन बेड एवं 1261 आईसीयू बेड के साथ 385 वेन्टीलेटर की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। इसके अलावा 24,027 सामान्य बेड भी मरीजों के लिए उपलब्ध है। 

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल ने कहा- निजामुद्दीन मरकज से 1,500 लोग निकाले गए, आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग

स्वास्थ्य विभाग की माने तो प्रदेश में कोविड-19 वायरस टेस्टिंग की पर्याप्त व्यवस्था है। वर्तमान में 05 टेस्टिंग लैब पूरी तरह से संचालित है। ये लैब एम्स भोपाल, जीएमसी भोपाल, जबलपुर, डीआरडीई ग्वालियर एवं मेडिकल कालेज इंदौर में संचालित है। इसके अलावा तीन अन्य लैब अगले एक सप्ताह में संचालित हो जाएगी। टैस्टिंग किट की बात करें तो वर्तमान में 5000 टेस्टिंग किट उपलब्ध है और अधिक टेस्टिंग किट की आपूर्ति निरंतर की जा रही है। वही चिकित्सकों, मरीजों एवं उनके परिवार की सुरक्षा हेतु पर्याप्त संख्या में सुरक्षा उपकरण, मास्क जिलों में उपलब्ध करवा दिए गए है। जिसमें 31 मार्च 2020 की शाम तक पी.पी.ई.किट 18,265 है तथा 1,99,345 नई क्रय की जा रही हो, एन-95 मास्क 76,242 है तथा 2,61,238 नए क्रय किए जा रहे है और थ्री-लेयर मास्क 22,04,500 उपलब्ध है त्था 26,12,38 क्रय किए जा रहे है। वही टोल फ्री नंबर 104 और 181 पर अभी तक 26,000 से ज्यादा लोगों को समाधान कारक परामर्श दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना ने खोली अमेरिका की पोल, डोनाल्ड ट्रंप पर उठे सवाल

राजधानी भोपाल में इस दौरान कोरोना का एक और पॉजिटिव केस मिला है। भोपाल के अवधपुरी निवासी 26 साल का ये युवक कुछ दिन पहले लंदन से दिल्ली आया था, फिर मुंबई और इंदौर भी गया था। इसके बाद वह बाइक से वापस भोपाल आया था। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया भोपाल का कोरोना पॉजिटिव युवक 20 मार्च को लंदन से दिल्ली आया। वहां से मुंबई गया, फिर इंदौर आया जहाँ उसे क्वारेंटाइन किया गया था, लेकिन युवक इंदौर से भाग निकला और बाइक से छुपते हुए गांव के रास्ते से भोपाल आया। भोपाल में एक निजी अस्पताल में सोमवार को आकर भर्ती हुआ था। इसकी स्थिति बिगड़ने पर एम्स में एडमिट किया गया। निजी अस्पताल में उसके संपर्क में आए डॉक्टर और स्टाफ की पहचान की जा रही है। युवक के संपर्क में आए लोगों की भी पहचान की जा रही है। युवक इस समय एम्स में भर्ती है। जिसके बाद मंगलवार 31 मार्च 2020 को भोपाल में कोरोना पॉजिटिव संख्या 04 हो गई हैं। वहीं, एक दिन पहले नीमच से इलाज के लिए भोपाल के एम्स में भर्ती किए गए एक कोरोना संदिग्ध मरीज की सोमवार देर रात मौत हो गई। इससे पहले भोपाल में एक पत्रकार और उसकी लंदन से आई बेटी तथा एक रेलवे का गार्ड कोरोना संक्रमित मिला था। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।