करदाताओं का पैसा नहीं लूट सकते इसलिए एकजुट हो रहे विपक्षी: मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2019   08:16
करदाताओं का पैसा नहीं लूट सकते इसलिए एकजुट हो रहे विपक्षी: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इससे पहले करीब आठ करोड़ फर्जी लाभार्थी थे जो सरकार से आर्थिक लाभ ले रहे थे। हमारी सरकार ने इसे रोक दिया।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों के कार्यकाल में करीब आठ करोड़ ‘फर्जी लाभार्थी’ सरकारी सहायता पा रहे थे लेकिन विपक्षी नेता अब मुझे गाली दे रहे हैं क्योंकि मैंने करदाताओं का पैसा लूटने की उनकी मंशा खत्म कर दी है। अपनी सरकार की जनधन योजना और आधार योजना का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि इन प्रयासों से जनता के 1,10,000 करोड़ रुपये से अधिक रुपये उन फर्जी लाभार्थियों के पास जाने से बच गये। मोदी ने यहां ‘न्यूज 18 राइजिंग इंडिया समिट’ कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा कि कोई भी अब सरकार में घोटाला नहीं कर सकता क्योंकि जनता के पैसे की लूट के ‘सभी तरीकों’ को बंद कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: ममता का आरोप, चुनाव में पुलवामा हमले पर राजनीति करना चाहती है मोदी सरकार

उन्होंने कहा कि इससे पहले करीब आठ करोड़ फर्जी लाभार्थी थे जो सरकार से आर्थिक लाभ ले रहे थे। हमारी सरकार ने इसे रोक दिया। उन्होंने कहा, ‘विपक्ष के नेता मुझे गाली देने के लिये एकजुट हो रहे हैं क्योंकि मैंने करदाताओं का पैसा उनकी जेब में जाने पर रोक लगा दी है।’ रोजगार को लेकर कांग्रेस सहित विपक्षी दलों के आरोपों के संदर्भ में प्रधानमंत्री ने पूछा, ‘जरा सोचिए भारत जब सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बन गया है तो क्या ये संभव है कि बिना नौकरी के अवसर बढ़े यह जो जाये?जब देश में एफडीआई सर्वकालिक उच्च स्तर पर है तो क्या ये संभव है कि नौकरियां पैदा नहीं हो रही हों?’

उन्होंने कहा कि हम पढ़ते आए थे कि इक्कीसवीं सदी भारत की सदी है। भारत को 2013 में दुनिया की पांच कमजोर अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों में पहुंचा दिया गया। परंतु आज सरकार के दृढ़ निश्चय और 125 करोड़ देशवासियों के परिश्रम के बल पर भारत सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था’ बन गया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अर्थव्यवस्था की मजबूती से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) प्रवाह बढ़ा है। रेलमार्गो, मकानों, पुल, बांध, हवाई अड्डा समेत आधारभूत संरचना क्षेत्र में रिकार्डतोड़ काम हो रहा है और इससे देश में बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर सृजित हो रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: पुलवामा हमले के बाद डरे इमरान ने PM मोदी से कहा, शांति का एक मौका दें

पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि 2014 के पहले देश में स्थिति यह थी कि जो बढ़ना चाहिए था वो घट रहा था और जो घटना चाहिए था, वो बढ़ रहा था। मोदी ने कहा कि जब कई अंतरर्राष्ट्रीय रिपोर्ट कह रही हैं कि भारत में सबसे तेजी से गरीबी हट रही है तो क्या ये संभव है कि बिना नौकरी के लोग गरीबी से बाहर आ रहे हों? उन्होंने सवाल किया कि जब देश में पहले की तुलना में कई गुना रफ्तार से सड़कें बनाने का काम चल रहा है, रेल मार्गों के विस्तार का काम हो रहा है। गरीबों के लिए लाखों मकान बनाने से लेकर नए पुल, नए बांध, नए हवाई अड्डों का रिकॉर्ड कार्य हो रहा है। तो क्या ये संभव है कि रोजगार पैदा नहीं हुए हों?

उन्होंने कहा कि पिछले 4 वर्षों में विदेशी पर्यटकों की संख्या में क़रीब 45% की वृद्धि हुई है। पर्यटन से होने वाली विदेशी मुद्रा की कमाई भी बीते 4 वर्षों में 50% बढ़ गई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के विमानन क्षेत्र में भी ऐतिहासिक बढ़ोतरी हुई है। क्या इन सबसे रोजगार के अवसर सृजित नहीं हुए हैं? महंगाई का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि पिछली सरकार में आप ने खूब रिपोर्ट किया था कि महंगाई दर 10% का आंकड़ा पार कर गई थी। हमारी सरकार में महंगाई दर गिरकर 2-4% के आसपास रह गई है। उन्होंने कहा कि पहले की सरकारों ने, देश में जो व्यवस्था बना रखी थी, उसमें एक-दो नहीं 8 करोड़ ऐसे फर्जी नाम थे, जिनके नाम पर सरकारी लाभ हस्तांतरित किया जा रहा था।

इसे भी पढ़ें: PM ने सफाईकर्मियों के धोये पैर, ज्योति बोलीं- कभी सोचा नहीं था इतना सम्मान मिलेगा

मोदी ने कहा कि सरकार के प्रयासों से एक लाख 10 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा धन गलत हाथों में जाने से बचा है। मध्यम वर्ग छूट के लिए निरंतर आवाज़ देता रहता था लेकिन राहत के नाम पर कुछ नहीं मिलता था। हमारी सरकार ने 5 लाख तक की कर योग्य आय को ही टैक्स के दायरे से बाहर कर दिया है। अपनी सरकार की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार के दौरान करीब-करीब 6 लाख करोड़ रुपए केंद्र सरकार ने सीधे लाभार्थियों के खाते में भेजे हैं। उन्होंने कहा कि अब सोचिए, किसी को चारा घोटाला करना हो तो कैसे करेगा?क्योंकि अब तो सीधे मोबाइल पर मैसेज आता है, कच्ची-पक्की पर्ची का तो सारा इंतजाम ही हमने खत्म कर दिया है। इसलिए ही तो मुझे पानी पी-पी कर गाली दी जाती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें ये कहते हुए गर्व है कि पहले की तरह 100 में से सिर्फ 15 पैसे नहीं,बल्कि पूरे पैसे लाभार्थियों को मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने ‘प्रधानमंत्री किसान’की शुरुआत की है। 12 करोड़ किसान परिवारों को उसकी जरूरत पूरा करने के लिए, जैसे चारा खरीदने के लिए, बीज खरीदने के लिए, खाद खरीदने के लिए सरकार 75 हजार करोड़ रुपए, सीधे किसानों के खाते में ट्रांसफर करने जा रही है। इसमें लीकेज संभव नहीं है। मोदी ने कहा कि जनधन खाते, आधार और मोबाइल को जोड़ने का नतीजा ये हुआ कि एक के बाद एक करके कागजों में दबे हुए फर्जी नाम सामने आने लगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।