पालघर लिंचिंग: भाजपा विधायक हिरासत में, CBI जांच की मांग के लिए जनाक्रोश यात्रा की बना रहे थे योजना

Ram Kadam
भाजपा विधायक राम कदम के सहयोगी हाथ में बैनर लिए पालघर जाकर उस स्थान पर दीये जलाने की योजना बना रहे थे, जहां अप्रैल में भीड़ ने दो साधुओं और उनके चालक की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी।

मुंबई। भाजपा के विधायक राम कदम और उनके सहयोगियों को मुंबई में बुधवार को उस समय हिरासत में ले लिया गया, जब वे इस साल अप्रैल में पालघर में तीन लोगों की भीड़ द्वारा पीट-पीट कर हत्या किए जाने के मामले की सीबीआई जांच की मांग को लेकर पालघर तक रैली निकालने की योजना बना रहे थे। महाराष्ट्र आपराधिक जांच विभाग (सीआईडी) इस मामले की जांच कर रहा है। कदम के सहयोगी हाथ में बैनर लिए पालघर जाकर उस स्थान पर दीये जलाने की योजना बना रहे थे, जहां अप्रैल में भीड़ ने दो साधुओं और उनके चालक की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। कदम और उनके सहयोगियों की मांग है कि इस मामले की जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) को सौंपी जाए। 

इसे भी पढ़ें: पूरी तरह होश में हैं वरवर राव: महाराष्ट्र सरकार ने उच्च न्यायालय को दी जानकारी 

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कदम और उनके सहयोगियों के ‘जनाक्रोश यात्रा’ शुरू करने से पहले ही पुलिस विधायक के खार स्थित आवास पहुंची और उन्हें हिरासत में ले लिया। अधिकारी ने कहा, ‘‘हमने विधायक कदम और उनके सहयोगियों को हिरासत में ले लिया है और उन्हें खार पुलिस थाना लाया गया है।’’ पालघर के पुलिस अधीक्षक दत्तात्रेय शिंदे ने कहा कि जिले में कासा पुलिस ने पहले कदम को निषेधाज्ञा नोटिस दिया था, इसके बावजूद उन्होंने और उनके सहयोगियों ने यात्रा की योजना आगे बढ़ाने की कोशिश की, इसलिए उन्हें मुंबई में हिरासत में लिया गया। 

इसे भी पढ़ें: JNU का नाम बदलने की मांग पर बोले संजय राउत, राजनीतिक मंशा के चलते ऐसा करना सही नहीं 

उन्होंने कहा कि उनकी यात्रा कानून-व्यवस्था की समस्या पैदा कर सकती थी और इससे अशांति पैदा हो सकती थी, इसलिए नोटिस जारी किया गया था। उल्लेखनीय है कि कार के जरिए मुंबई से सूरत जा रहे दो साधुओं और उनके चालक की 16 अप्रैल को पालघर के गढ़चिरौली गांव में लोगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। भीड़ को शक था कि ये तीनों बच्चा चुराने आए थे। पुलिस ने बताया कि इस मामले में अब तक 180 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और 11 नाबालिगों को हिरासत में लिया जा चुका है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़