पटनायक ने PM मोदी से फोन पर की बात, कोरोना के मद्देनजर नीट और JEE परीक्षा टालने का किया अनुरोध

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   14:47
पटनायक ने PM मोदी से फोन पर की बात, कोरोना के मद्देनजर नीट और JEE परीक्षा टालने का किया अनुरोध

मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री के साथ बातचीत के दौरान पटनायक ने कहा कि ओडिशा महामारी के साथ-साथ बाढ़ की भी चपेट में हैं और परीक्षाओं के दौरान छात्रों को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

भुवनेश्वर। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से फोन पर बात कर राज्य में कोविड-19 और बाढ़ से उत्पन्न हालात के मद्देनजर राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) और संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) की परीक्षाएं स्थगित करने का अनुरोध किया। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। दो दिन पहले मुख्यमंत्री ने इस संबंध में केन्द्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखा था। मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री के साथ बातचीत के दौरान पटनायक ने कहा कि ओडिशा महामारी के साथ-साथ बाढ़ की भी चपेट में हैं और परीक्षाओं के दौरान छात्रों को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। 

इसे भी पढ़ें: JEE, NEET की परीक्षाओं के आयोजन के खिलाफ 28 अगस्त को कांग्रेस का प्रदर्शन 

इससे पहले मुख्यमंत्री ने मंगलवार को निशंक को लिखे अपने पत्र में केन्द्र से संयुक्त प्रवेश परीक्षा (मेन) और नीट टालने के लिये कदम उठाने का अनुरोध किया था क्योंकि महामारी के बीच परीक्षा केंन्द्र में जाकर इम्तिहान देना छात्रों के लिये असुरक्षित होगा। राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी ने मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश के लिये ली जाने वाली नीट और जेईई की परीक्षाएं सितंबर में कराने की घोषणा की है। ओडिशा में लगभग 50 हजार छात्र नीट जबकि 40 हजार से अधिक छात्र जेईई (मेन) परीक्षा में बैठने वाले हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।