राहुल गांधी के समर्थन में उतरे संजय राउत, बोले- देश में लोग आज भी डरे हुए हैं

Sanjay Raut
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि राहुल गांधी ने जो बात कही है, वह सच है। जो भाजपा के विरोधी है, उनके खिलाफ केंद्रीय एजेंसियां जिस प्रकार से मुहीम चला रही है। यह लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है। लोग आज भी डरे हुए हैं... देश में लोकतंत्र ज़रूर है...

मुंबई। शिवसेना सांसद संजय राउत ने शनिवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की केंद्रीय एजेंसियों वाली टिप्पणी का समर्थन किया है। इसी के साथ ही संजय राउत ने भाजपा के खिलाफ जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि देश में लोकतंत्र ज़रूर है लेकिन इस प्रकार का लोकतंत्र जिसका गला केंद्रीय एजेंसियां घोंट रही हैं। यह हमने पहले कभी नहीं देखा था। 

इसे भी पढ़ें: सामना के जरिए बोली शिवसेना, शिव कैलाश में विराजमान और 'भक्त' उन्हें कहीं और ढूंढ़ रहे 

समाचार एजेंसी एएनआई के साथ बातचीत में शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि राहुल गांधी ने जो बात कही है, वह सच है। जो भाजपा के विरोधी है, उनके खिलाफ केंद्रीय एजेंसियां जिस प्रकार से मुहीम चला रही है। यह लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है। लोग आज भी डरे हुए हैं... देश में लोकतंत्र ज़रूर है लेकिन इस प्रकार का लोकतंत्र जिसका गला केंद्रीय एजेंसियां घोंट रही हैं। यह हमने पहले कभी नहीं देखा था।

दरअसल, राहुल गांधी ने लंदन में आयोजित सम्मेलन आईडियाज फॉर इंडिया (भारत के लिए विचार) में केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि कृपया समझें, भाजपा का काम शोर मचाना और आवाजें दबाना है। जबकि हम सुनते हैं। ये दो अलग चीजें हैं, ये दो अलग डिजाइन हैं। 

इसे भी पढ़ें: परिवारवादी पार्टियों से लड़ रही है भाजपा, जेपी नड्डा बोले- इन पार्टियां का कोई लक्ष्य नहीं होता 

पूर्व अध्यक्ष ने चेताया था कि पूरे देश में केरोसीन (मिट्टी का तेल) फैला हुआ है और आग लगाने के लिए बस एक चिंगारी की जरूरत है। उन्होंने कहा था कि एक कार्यकर्ता से कहा जाता है कि आप यह कहेंगे और कुछ नहीं। यह कार्यकर्ता लोगों के गले के नीचे खास तरह के विचारों को उतारने के लिए तैयार किया गया है, फिर चाहे वह कम्युनिस्ट विचारधारा हो या राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की सोच।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़