भोपाल में युवक को सुअरों ने बनाया निवाला, गुरुवार शाम से मृतक था लापता

भोपाल में युवक को सुअरों ने बनाया निवाला, गुरुवार शाम से मृतक था लापता

शुक्रवार सुबह एक शव को सूअरों द्वारा नोंच-नोंच कर खाया जा रहा था। स्थानीय निवासियों ने जब यह देखा तो तुरंत पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची कोलार थाना पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कोलार क्षेत्र में शुक्रवार सुबह एक हृदयविदारक दृश्य देखने को मिला है। यहां एक युवक के शव को सूअरों ने नोंच-नोंच कर खा लिया। मृतक युवक शराब पीने का आदी था और गुरुवार शाम से लापता था। घटना उस कोलार क्षेत्र में घटी, जहां सबसे ज्यादा सख्त लॉकडाउन लगा हुआ है। पुलिस चौकसी कर रही है, इसके बाद भी उन्हें पता नहीं चला। आशंका है कि मृतक शराब के नशे में गिर गया हो और सूअरों ने उसे नोंच खाया। हालांकि पुलिस इससे भी इनकार नहीं कर रही है कि हत्या करने के बाद उसका शव फेंका गया हो। पुख्ता कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने बाद ही पता चल पाएगा।

 

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ का दावा 80 प्रतिशत मौतें कोविड से हुई, कोरोना से हुई मौतों पर शिवराज सरकार को घेरा

जानकारी के अनुसार कलियासोत नदी किनारे स्थित अमरनाथ कॉलोनी के पास शुक्रवार सुबह एक शव को सूअरों द्वारा नोंच-नोंच कर खाया जा रहा था। स्थानीय निवासियों ने जब यह देखा तो तुरंत पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची कोलार थाना पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया। मृतक के कपड़ों से उसकी पहचान दामखेड़ा निवासी 25 साल के मोहन मीणा के रूप में हुई है। वह पुताई का काम करता था। 

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश का आगर मालवा जिला हुआ कोरोना मुक्त, मुख्यमंत्री ने दी बधाई

परिजनों ने बताया कि मृतक मोहन मीणा गुरुवार शाम को इलाके में ही था। इसके बाद से उसका पता नहीं चला। वह रात को भी घर नहीं आया। परिजनों का कहना था कि वह अक्सर इसी तरह घर से गायब हो जाता था, इसलिए उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया। उन्हें लगा कि हमेशा की तरह वह एक-दो दिन में लौट आएगा। कोलार थाना प्रभारी चंद्रभान पटेल ने बताया कि शव को बुरी तरह नोंचा जा चुका है। ऐसे में उसकी मौत के बारे में पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल सकेगा। हालांकि पुलिस मृतक के परिचितों और अन्य लोगों से पूछताछ कर रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।