प्रधानमंत्री पर बरसे पृथ्वीराज चव्हाण, बोले- PM केयर्स स्व प्रचार का खुला प्रयास है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 1, 2020   17:21
प्रधानमंत्री पर बरसे पृथ्वीराज चव्हाण, बोले- PM केयर्स स्व प्रचार का खुला प्रयास है

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि प्रधानमंत्री राहत कोष तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने पाकिस्तान से आने वाले शरणार्थियों की मदद के लिए जनवरी 1948 में बनाया था।

मुंबई। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए बनाए गए कोष ‘पीएम केयर्स’ को बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘‘स्व प्रचार का खुला प्रयास’’ करार देते हुए कहा कि दुनिया में इस तरह का और कोई उदाहरण नहीं है। राज्य के काबिना मंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘सिर्फ भारत में हमारे राहत पैकेज को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना नाम दिया गया है। नरेंद्र मोदी स्व प्रचार का कोई अवसर नहीं चूकते।’’ उन्होंने लिखा है, ‘‘दुनिया के और किसी नेता ने राहत पैकेज की घोषणा करते हुए उसका नाम राष्ट्रपति पैकेज या प्रधानमंत्री पैकेज या ट्रंप पैकेज नाम नहीं दिया है।’’ 

इसे भी पढ़ें: तारीख दर तारीख कोरोना से जंग में मोदी सरकार ने उठाए कारगर कदम, लेकिन लड़ाई अभी लंबी है... 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री राहत कोष तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने पाकिस्तान से आने वाले शरणार्थियों की मदद के लिए जनवरी 1948 में बनाया था। चव्हाण ने ट्वीट किया, ‘‘नरेंद्र मोदी के अलावा अन्य किसी प्रधानमंत्री को दूसरा राष्ट्रीय राहत कोष बनाने की जरुरत महसूस नहीं हुई। पीएम केयर्स स्व प्रचार का खुला प्रयास है।’’ कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए बनाए गए पीएम केयर्स कोष में कई कारोबारी समूहों एवं जानीमानी हस्तियों ने योगदान देने का ऐलान किया है। संकट के इस दौर में गरीबों की मदद करने के लिए केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने पिछले सप्ताह, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।