संयुक्त राष्ट्र महासभा में पीएम मोदी का संबोधन आज, आतंकवाद के खिलाफ उठाएंगे आवाज

संयुक्त राष्ट्र महासभा में पीएम मोदी का संबोधन आज, आतंकवाद के खिलाफ उठाएंगे आवाज

संयुक्त राष्ट्र महासभा का 74वां सत्र 17 से 30 सितंबर तक न्यूयार्क में हो रहा है। इसमें सदस्य देशों के प्रतिनिधि अलग-अलग दिन अपनी बात रख रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र की शुरुआत हो चुकी है और 27 सितंबर यानी आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महासभा को संबोधित करेंगे। यूएनजीए में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ये दूसरा भाषण होगा। पीएम मोदी भारतीय समयानुसार शाम करीब 7.15 बजे भाषण देंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज संयुक्त राष्ट्र महासभा को दूसरी बार संबोधित करेंगे। उम्मीद जताई जा रही है कि इस दौरान वे आतंकवाद, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद समेत दूसरे अंतरराष्ट्रीय संगठनों में सुधार, जलवायु परिवर्तन, गरीबी उन्मूलन जैसे मुद्दे उठा सकते हैं। पीएम मोदी संयुक्त राष्ट्र के मंच से पाकिस्तान को घेरते हुए नजर आएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान को इस वैश्विक मंच से चेतावनी भी दे सकते हैं। पीएम मोदी के संबोधन के बाद सातवें नंबर पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान करीब आठ बजे इसी मंच से अपनी बात रखेंगे। जिसमें एक बार फिर इमरान का कश्मीर राग देखने को मिल सकता है।

 इसे भी पढ़ें: देश के युवा पूछ रहे हैं हाउडी एजुकेशन और हाउडी अनइप्लॉयमेंट, जवाब दें मोदी: कांग्रेस

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र महासभा का 74वां सत्र 17 से 30 सितंबर तक न्यूयार्क में हो रहा है। इसमें सदस्य देशों के प्रतिनिधि अलग-अलग दिन अपनी बात रख रहे हैं। प्रधानमंत्री के रूप में मोदी ने 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में पहला भाषण दिया था। इस बार उनके दूसरे कार्यकाल का संयुक्त राष्ट्र महासभा में यह पहला संबोधन होगा। पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सितंबर 2016 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 71वें सत्र में पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर कड़ी चेतावनी दी थी। जिसे देश में खूब सराहना भी मिली थी।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।