कृषि कानून को वापस लेने के बाद, पीएम मोदी पहली बार करेंगे किसानों से सीधा सवांद

कृषि कानून को वापस लेने के बाद, पीएम मोदी पहली बार करेंगे किसानों से सीधा सवांद

इस संगोष्ठी में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी स्वयं शामिल रहेंगे और किसानों से सीधा बातचीत करेंगे। यह पहला मौका होगा जब कृषि नीति वापस लेने के बाद पीएम मोदी किसानों के बीच उपस्थित रहेंगे और उनसे सीधा सवांद करेंगे।

वाराणसी। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का नरेंद्र मोदी के करकमलों द्वारा 13 दिसम्बर को लोकार्पण होना तय है। इसी कड़ी में श्रीकाशी विश्वनाथ धाम यात्रा के तहत 23 दिसंबर को गौ आधारित जैविक खेती विषय पर एक  संगोष्ठी आयोजित होने जा रही है। इस संगोष्ठी में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी स्वयं शामिल रहेंगे और किसानों से सीधा बातचीत करेंगे। यह पहला मौका होगा जब कृषि नीति वापस लेने के बाद पीएम मोदी किसानों के बीच उपस्थित रहेंगे और उनसे सीधा सवांद करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: जबलपुर से छात्रा का वीडियो हुआ वायरल, कहा -

इस संगोष्ठी को आराजी लाइन ब्लाक के शाहंशाहपुर में आयोजित किया जाएगा। इसमें गुजरात के राज्यपाल समेत देश के प्रसिद्ध कृषि वैज्ञानिक समेत अन्य लोग भी शामिल होंगे। इसके साथ ही जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा ने बातचीत में बताया कि, संगोष्ठी में किसानों को निमंत्रण देने की तैयारी हो रही है।इस आयोजित संगोष्ठी में बनारस समेत आसपास जिलों के भी किसान को निमंत्रण भेजा जाएगा। प्रदेश व देश के अन्य क्षेत्रों से प्रगतिशील किसानों को भी बुलावा भेजा जा रहा है। उन्होंने आगे बताया कि इस संगोष्ठी में लगभग 10 हजार किसानों के रहने व खाने की बेहतर व्यवस्था की जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: MP में लागू होगा नया कानून, लोक और निजी संपत्ति की भरपाई दंगा करने वालो से वसूली जाएगी

इसके साथ ही काशी आगमन पर वे बाबा श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में दर्शन-पूजन करने के साथ ही कारिडोर का भ्रमण करेंगे। इसके अलावा सारनाथ, पड़ाव स्थित पं. दीनदयाल उपाध्याय स्मृति उपवन के साथ ही रुद्राक्ष सम्मेलन केंद्र आदि जगहों का भ्रमण भी संगठन स्तर से कराया जाएगा।इन सब के द्वारा किसानों को नजदीक से समझाने का प्रयास किया जाएगा कि किसानों के हितों को लेकर केंद्र व प्रदेश सरकार किस प्रकार कदम उठा रही है, और किसान भी इन सब प्रयासों को अच्छे से समझ व जान सकेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।