कांग्रेस से बीजेपी में आए प्रेमचंद गुड्डू ने सिंधिया और तुलसी सिलावट पर साधा निशाना, फिर से कांग्रेस में वापसी की तैयारी

Premchand Guddu
दिनेश शुक्ल । May 19, 2020 6:10PM
कांग्रेस में दिग्विजय सिंह के करीबी माने जाने वाले प्रेमचंद गुड्डू ने पिछली विधानसभा चुनाव के समय अपने बेटे अजीत बोरासी के लिए कांग्रेस से टिकिट न मिल पाने के चलते बागी होकर उन्होनें भाजपा का दामन धामा था।

इंदौर। मध्य प्रदेश में उपचुनाव की आहट सुनाई देने लगी है। जिसको लेकर अब इंदौर जिले की सांवेर सीट पर दावेदारी की राजनीति शुरू हो गई है। विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने वाले पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू ने अपनी ही पार्टी के मंत्री तुलसी सिलावट और ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधा है। प्रेमचंद गुड्डू ने कहा है कि इस बार सिंधिया और सिलावट को हराना है। इसके साथ ही गुड्‌डू ने इंदौर जिले की सबसे प्रतिष्ठापूर्ण मानी जाने वाली सांवेर विधानसभा सीट से सिलावट को चुनौती देने का ऐलान कर दिया है। उधर, भाजपा ने कार्रवाई की तैयारी भी शुरू कर दी। पूर्व विधायक राजेश सोनकर ने बताया कि भाजपा ने गुड्‌डू को पार्टी विरोधी बयानबाजी को लेकर नोटिस जारी कर सात दिन में जवाब मांगा है।

इसे भी पढ़ें: ग्वालियर संभाग में उपचुनाव की आहट के साथ विकास कार्य शुरू, ग्वालियर-चंबल संभाग में होना है 16 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव

कांग्रेस में दिग्विजय सिंह के करीबी माने जाने वाले प्रेमचंद गुड्डू ने पिछली विधानसभा चुनाव के समय अपने बेटे अजीत बोरासी के लिए कांग्रेस से टिकिट न मिल पाने के चलते बागी होकर उन्होनें भाजपा का दामन धामा था। लेकिन सिंधिया समर्थक तुलसी सिलावट के भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के बाद शिवराज सरकार में मंत्री बनाए जाने से प्रेमचंद गुड्डू के तेवर बदल गए है। प्रेमचंद गुड्डू ने मीडिया से चर्चा के दौरान तुलसी सिलावट और ज्योतिरादित्य सिंधिया पर हमला बोला और कहा कि तुलसी सिलावट को सांवेर उपचुनाव में हराना है। उन्होंने सिंधिया परिवार पर भी जमकर निशाना साधा। गुड्डू ने आरोप लगाया कि किसानों के मुद्दों पर लगातार सरकारों को चिट्ठियां लिखने वाले सिंधिया आज किसानों से बात करने को तैयार नहीं हैं, ना ही सिलावट किसानों की सुध ले रहे हैं। सांवेर के किसान ही समर्थन मूल्य से कम कीमतों पर 1400 से 1500 रुपए प्रति क्विंटल गेहूं बेचने पर मजबूर हैं, जो सब्जियां लगाई थी, वह मंडियां बंद होने के कारण खेत में ही खराब हो गईं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना से जूझ रहे इंदौर शहर को स्वच्छता सर्वेक्षण में 5 स्टार रेटिंग

गुड्‌डू ने कहा- संकट के इस समय में बड़े-बड़े दावा करने वाले सिंधिया और सिलावट किसानों और सांवेर के मतदाताओं को धोखा देकर घरों में दुबके हुए हैं। गुड्डू ने सिंधिया परिवार पर सीधे हमला बोला। कहा - स्वतंत्रता संग्राम में महारानी लक्ष्मीबाई को हराने में इन्हीं का योगदान था। इनकी दादी ने कांग्रेस की सरकार गिराई थी। इनके पिता ने कांग्रेस को धोखा देकर अलग से चुनाव लड़ा था। सिंधिया परिवार अपने हितों को साधने के लिए लगातार कांग्रेस को धोखा देता रहा है। 

गुड्‌डू यही नहीं रूके उन्होनें कहा कि सिंधिया और सिलावट को सांवेर की जनता कभी माफ नहीं करेगी। सांवेर की जनता इन्हें सबक सिखाएगी। तुलसी सिलावट की हार यानी कि ज्योतिरादित्य की हार। जो उन्होनें एक साल पहले भाजपा की सदस्यता ग्रहण करते समय बोला था एक बार फिर दोहराते हुए कहा कि मैं पार्षद, सांसद, विधायक सबकुछ रह चुका हूं। मेरी कोई दावेदारी नहीं है। मैं तो इस इस कार्य में लगा हूं कि इन सामंतियों को किस प्रकार से रोका जाए। 

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ और नकुलनाथ के लापता होने के छिंदवाड़ा में लगे पोस्टर, रखा गया 21 हजार नगद ईनाम

प्रेमचंद गुड्‌डू की इस बयानबाजी को लेकर ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि वे जल्द ही कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। वही राजनीतिक पंडितों की माने तो कांग्रेस ने उपचुनाव के लिए विसात बिछानी शुरू कर दी है। जिसके चलते अब जिन कांग्रेस के नेताओं को सिधिया समर्थकों के चलते विधानसभा चुनाव में टिकिट नहीं मिली थी उनकी आशाए एक बार फिर जाग गई है। जिसके चलते ही इंदौर क्षेत्र के दिग्गज नेताओं में गिने जाने वाले दिग्विजय सिंह समर्थक प्रेमचंद गुड्डू ने अपने सुर बदल दिए है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़