'भाजपा के लिए वरदान हैं राहुल', आजाद के इस्तीफे पर बोले हिमंत बिस्वा सरमा, सोनिया ने सिर्फ अपने बेटे को आगे बढ़ाने का किया काम

Himanta Biswa Sarma
ANI Image
मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि गुलाम नबी आजाद और मेरे लिखे गए (इस्तीफे) पत्र में काफी समानता हैं। सबको पता है कि राहुल गांधी अपरिपक्व और अप्रत्याशित नेता हैं। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने अब तक बस अपने बेटे को ही आगे बढ़ाने का काम किया है जो अब तक विफल रहा है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने संगठनात्मक चुनाव से पूर्व शुक्रवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता समेत सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। जिसके बाद तमाम नेताओं की प्रतिक्रिया आना शुरू हो गई। इसी क्रम में असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा की भी प्रतिक्रिया सामने आई, जो पहले कांग्रेस पार्टी में हुआ करते थे। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी भाजपा के लिए वरदान हैं।

इसे भी पढ़ें: गुलाब नबी के कांग्रेस से 'आजाद' होने पर बोले आनंद शर्मा, हम निरंतर हो रहे कमजोर, वे बहुत आहत हुए होंगे

अप्रत्याशित नेता हैं राहुल गांधी

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि गुलाम नबी आजाद और मेरे लिखे गए (इस्तीफे) पत्र में काफी समानता हैं। सबको पता है कि राहुल गांधी अपरिपक्व और अप्रत्याशित नेता हैं। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने अब तक बस अपने बेटे को ही आगे बढ़ाने का काम किया है जो अब तक विफल रहा है।

उन्होंने कहा कि इस वजह से जो नेता पार्टी के लिए वफ़ादार थे वह पार्टी छोड़कर जा रहे हैं। मैंने 2015 में ही कहा था कि कांग्रेस में सिर्फ गांधी रह जाएंगे... राहुल गांधी भाजपा के लिए वरदान हैं। जब लोग राहुल गांधी से हमारे नेताओं की तुलना करते हैं तो वैसे ही हम आगे हो जाते हैं।

गुलाम नबी कांग्रेस से हुए 'आजाद'

गुलाम नबी आजाद जी-23 समूह के प्रमुख नेता हैं। हाल ही में उन्होंने जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की चुनाव अभियान समिति के प्रमुख पद से इस्तीफा दे दिया था। लेकिन अब वो पूर्णत: कांग्रेस से 'आजाद' हो गए। गुलाम नबी आजाद ने कहा कि वह भारी मन से यह कदम उठा रहे हैं। उन्होंने पार्टी को 'पूरी तरह से बर्बाद हो गई' बताया और कहा कि कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के लिए और प्रदेश स्तर पर क्षेत्रीय दलों के लिए स्थान खाली कर दिया।

इसे भी पढ़ें: गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस पार्टी के सभी पदों से दिया इस्तीफा, वरिष्ठ नेताओं को किनारा करने का लगाया आरोप 

आपको बता दें कि गुलाम नबी आजाद से पहले कई वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी को अलविदा कहा। जिसमें कपिल सिब्बल, अश्विनी कुमार समेत इत्यादि शामिल हैं।

अन्य न्यूज़