सरकार को कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए किस चीज ने प्रेरित किया, यह स्पष्ट नहीं है : मिश्रा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 20, 2021   07:44
सरकार को कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए किस चीज ने प्रेरित किया, यह स्पष्ट नहीं है : मिश्रा

बसपा नेता ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि चुनाव के कारण कानूनों को वापस ले लिया गया है या सरकार चुनाव के बाद उन्हें फिर से लागू करेगी। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने पहले कानून वापस ले लिया होता तो किसानों की जान बचाई जा सकती थी।

मथुरा| बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के नेता सतीश मिश्रा ने केंद्र के कृषि कानूनों को वापस लेने के फैसले के बारे में आशंका व्यक्त करते हुए शुक्रवार को कहा कि यह अब तक स्पष्ट नहीं है कि केंद्र सरकार इन्हें वापस क्यों ले रही है।

उन्होंने कहा कि कहीं ऐसा तो नहीं कि राज्यों में आगामी विधानसभा चुनावों के बाद इन्हें फिर से पेश किया जाएगा। उन्होंने निर्णय में देरी पर भी सवाल उठाया और कहा कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के दौरान लगभग 800 किसान मारे गए हैं।

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर हिंसा: एसआईटी जांच की निगरानी पूर्व न्यायाधीश राकेश कुमार जैन करेंगे

उन्होंने शोक संतप्त परिवारों को मुआवजा देने की भी मांग की। मिश्रा ने कहा कि सरकार को इन काले कानूनों को वापस लेने के लिए मजबूर किया गया है, लेकिन इन्हें वापस लेने का कारण अब तक स्पष्ट नहीं है।

बसपा नेता ने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि चुनाव के कारण कानूनों को वापस ले लिया गया है या सरकार चुनाव के बाद उन्हें फिर से लागू करेगी। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने पहले कानून वापस ले लिया होता तो किसानों की जान बचाई जा सकती थी।

इसे भी पढ़ें: बुखार के कारण मुरादाबाद में पार्टी की बैठक में हिस्सा नहीं ले पाईं प्रियंका गांधी





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।