खट्टर के नेतृत्व वाली सरकार में 5,000 करोड़ रुपये का ‘खनन घोटाला’ हुआ: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2019   15:59
खट्टर के नेतृत्व वाली सरकार में 5,000 करोड़ रुपये का ‘खनन घोटाला’ हुआ: कांग्रेस

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुए हाल में राज्य विधानसभा में पेश भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट का उल्लेख किया।

चंडीगढ़। हरियाणा कांग्रेस ने शनिवार को आरोप लगाया कि राज्य में भाजपा के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती सरकार में 5,000 करोड़ रुपये का ‘‘खनन घोटाला’’ हुआ। कांग्रेस ने साथ ही इसकी उच्च न्यायालय के मौजूदा न्यायाधीश से जांच कराने की मांग की।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुए हाल में राज्य विधानसभा में पेश भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि सरकारी लेखा परीक्षक की रिपोर्ट में हरियाणा के खनन एवं भूविज्ञान विभाग की परियोजनाओं के क्रियान्वयन में ‘‘अनियमितताओं’’ के कारण विभाग में कथित रूप से 1,476 करोड़ रुपये के नुकसान होने का पता चला है। 

इसे भी पढ़ें: बाला साहेब ने जिन्हें पंचक कहा था, उद्धव ने उन्हीं के साथ सरकार बना ली

सुरजेवाला ने यह भी आरोप लगाया कि मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती सरकार में 5,000 करोड़ रुपये से अधिक का ‘‘खनन घोटाला’’ हुआ और दावा किया कि कैग की रिपोर्ट ने खट्टर सरकार और खनन ठेकेदारों के बीच ‘‘साठ-गांठ’’ का खुलासा किया है। उन्होंने कथित घोटाला मामले की उच्च न्यायालय के मौजूदा न्यायाधीश से जांच कराने की मांग की। सुरजेवाला ने आरोप लगाया, ‘‘बड़े पैमाने पर घपला हुआ है और नेताओं, नौकरशाहों एवं खनन माफियाओं की मिलीभगत के कारण सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचा है।’’ इस दौरान सुरजेवाला के साथ हरियाणा कांग्रेस प्रमुख कुमारी सैलजा भी थीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।