रूस-यूक्रेन युद्ध पर सामने आया फारूक अब्दुल्ला का बयान, बोले- इससे गरीब वर्ग और दूरदराज के इलाके बुरी तरह होंगे प्रभावित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2022   20:13
रूस-यूक्रेन युद्ध पर सामने आया फारूक अब्दुल्ला का बयान, बोले- इससे गरीब वर्ग और दूरदराज के इलाके बुरी तरह होंगे प्रभावित
प्रतिरूप फोटो

नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि जो दूरदराज के इलाकों में रहते हैं, वे अधिक प्रभावित होंगे। महंगाई बढ़ेगी और गरीबों के लिए सम्मान और स्वाभिमान से गुजर बसर करना मुश्किल होगा। जम्मू-कश्मीर में यह हमें बुरी तरह से प्रभावित करने वाला है, यहां तक कि जीना मुश्किल होगा।

श्रीनगर। नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने शनिवार को कहा कि रूस-यूक्रेन युद्ध का असर भारत सहित पूरी दुनिया पर होगा क्योंकि इससे महंगाई बढेगी और देश के गरीब वर्ग और दूरदराज के इलाके बुरी तरह से प्रभावित होंगे। उन्होंने कहा, ‘‘यूक्रेन के हालात का भारत पर ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया पर असर होगा। जैसे ही चुनाव संपन्न होंगे, आप तेल की कीमतों में वृद्धि देखेंगे क्योंकि कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इससे सभी वस्तुओं की कीमत पर असर होगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर के पुंछ में एलओसी के निकट भारी मात्रा में हेरोइन बरामद : अधिकारी 

अब्दुल्ला ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘जो दूरदराज के इलाकों में रहते हैं, वे अधिक प्रभावित होंगे। महंगाई बढ़ेगी और गरीबों के लिए सम्मान और स्वाभिमान से गुजर बसर करना मुश्किल होगा। जम्मू-कश्मीर में यह हमें बुरी तरह से प्रभावित करने वाला है, यहां तक कि जीना मुश्किल होगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: कश्मीर में बर्फबारी से जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग बंद, वाहन फंसे, हवाई यातायात में देरी, ट्रेन सेवा निलंबित 

अब्दुल्ला ने कहा कि भारत इलाके में यथाशीघ्र शांति चाहता हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि रूस का यूक्रेन के खिलाफ कार्रवाई के लिए अपना ही तर्क है। उन्होंने कहा कि नयी दिल्ली का इस स्थिति और इससे निकलने को लेकर अपना ही नजरिया है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में यूक्रेन के मुद्दे पर हुए मतदान के दौरान भारत की अनुपस्थिति के सवाल पर अब्दुल्ला ने कहा कि इस पर केंद्र सरकार को जवाब देना है कि मैं भारत सरकार का हिस्सा नहीं हूं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।