सचिन पायलट बोले- हिंसक घटनाओं और लोगों को भड़काने वाली ताकत पर लगाई जाए लगाम

सचिन पायलट बोले- हिंसक घटनाओं और लोगों को भड़काने वाली ताकत पर लगाई जाए लगाम

कांग्रेस के चिंतन शिविर के दौरान ही राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता सचिन पायलट ने बड़ा बयान दिया है। सचिन पायलट ने कहा कि हिंसा की घटनाओं और लोगों को भड़काने वाली ताकतों के खिलाफ जल्द लगाम लगाई जाए।

राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस का चिंतन शिविर चल रहा है। कांग्रेस के चिंतन शिविर में वर्तमान परिस्थितियों से लेकर पार्टी के पुनरुत्थान तक के लिए चर्चा की जा रही है। कांग्रेस के चिंतन शिविर की शुरूआत सोनिया गांधी के संबोधन के साथ हुई। कांग्रेस के चिंतन शिविर 13 मई से शुरू होकर 15 मई तक चलेगा। कांग्रेस के चिंतन शिविर के दौरान ही राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता सचिन पायलट ने बड़ा बयान दिया है। सचिन पायलट ने कहा कि हिंसा की घटनाओं और लोगों को भड़काने वाली ताकतों के खिलाफ जल्द लगाम लगाई जाए।

इसे भी पढ़ें: 'भाजपा को हरा सकती है सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस', सचिन पायलट बोले- चिंतन शिविर में पार्टी के 400 से ज्यादा नेता होंगे शामिल

सचिन पायलट ने कहा कि देश के लिए यह महत्वपूर्ण है कि देश भर में हो रही हिंसक घटनाओं और लोगों को भड़काने वाली ताकतों पर लगाम लगाई जाए। उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था, बेरोजगारी और निवेश जैसे मुद्दों पर विभिन्न समितियों में प्रतिनिधि अपनी बात रख रहे हैं। हम इसके बारे में एक बेहतर रोडमैप प्रदान करने पर चर्चा कर रहे हैं। कांग्रेस पार्टी में 50% युवाओं के प्रतिनिधित्व की बात पर सचिन पायलट ने कहा कि सोनिया गांधी ने बिल्कुल सही कहा कि आज सिर्फ 2 राज्यों में हमारी सरकार है। आने वाले समय में चुनौतियों का सामना करने के लिए हर व्यक्ति को एक सामूहिक नेतृत्व दिखाना पड़ेगा और मिलकर काम करना पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें: सचिन पायलट ने कांग्रेस चिंतन शिविर से पहले दिया बड़ा बयान, संप्रग को लेकर कही ये बात

इससे पहले सचिन पायलट ने कहा था कि कांग्रेस एक ऐसी ‘‘धुरी’’ है और आगे भी उसे ऐसे ही रहना होगा, जिसके इर्द-गिर्द भारतीय जनता पार्टी विरोधी गठबंधन बनता है। 2024 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राजग का मुकाबला करने के लिए ‘‘संप्रग प्लस प्लस’’ का गठन बेहतर विकल्प। चिंतन शिविर परिणामोन्मुखी होगा, जिसमें सफल चुनावी रणनीति बनाने पर प्रमुखता से चर्चा की जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।