सचिन पायलट ने कांग्रेस चिंतन शिविर से पहले दिया बड़ा बयान, संप्रग को लेकर कही ये बात

सचिन पायलट ने कांग्रेस चिंतन शिविर से पहले दिया बड़ा बयान, संप्रग को लेकर कही ये बात
Creative Common

सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस एक ऐसी ‘‘धुरी’’ है और आगे भी उसे ऐसे ही रहना होगा, जिसके इर्द-गिर्द भारतीय जनता पार्टी विरोधी गठबंधन बनता है। 2024 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राजग का मुकाबला करने के लिए ‘‘संप्रग प्लस प्लस’’ का गठन बेहतर विकल्प।

राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने चिंतन शिविर सही समय पर बुलाया है। इस साल दो-तीन राज्यों के चुनाव होने हैं। अगले दो साल बाद लोकसभा चुनाव भी होने वाले हैं। राष्ट्रीय स्तर पर एनडीए और भाजपा को अगर कोई हरा सकता है तो वह कांग्रेस पार्टी है और यह बात एकदम सच है। मीडिया से चर्चा के दौरान सचिन पायलट ने चिंतन शिविर के बाद पार्टी नेतृत्व में बदलाव को लेकर भी बड़े संकते दिए। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली की ताबड़तोड़ वापसी, राजस्थान रॉयल्स को 8 विकेट से हराया

सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस एक ऐसी ‘‘धुरी’’ है और आगे भी उसे ऐसे ही रहना होगा, जिसके इर्द-गिर्द भारतीय जनता पार्टी विरोधी गठबंधन बनता है। 2024 के आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाले राजग का मुकाबला करने के लिए ‘‘संप्रग प्लस प्लस’’ का गठन बेहतर विकल्प। चिंतन शिविर परिणामोन्मुखी होगा, जिसमें सफल चुनावी रणनीति बनाने पर प्रमुखता से चर्चा की जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: सत्ता परिवर्तन की अपील करते हुए नड्डा बोले, राजस्थान में चाहिए डबल इंजन सरकार

बता दें कि 13 मई यानी कल से राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस चिंतन शिविर बुलाया गया है। इस चिंतन शिविर के बाहर आज कांग्रेस नेता सचिन पायलट का फोटो और बैनर हटा दिया गया ह। बताया जा रहा है कि उदयपुर नगर निगम ने पायलट के फोटो, पोस्टर और बैनर को हटाया है। पाटलट के समर्थकों ने शिविर के बाहर उनके पोस्टर, बैनर और फोटो लगाए थे। इसके बाद से पायलट के समर्थक गुस्से में हैं। पायलट के समर्थकों ने शिविर के बाहर ही विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।