पवार के समर्थन में उतरी शिवसेना, कहा- ईडी आज भगवान से भी हुआ बड़ा

पवार के समर्थन में उतरी शिवसेना, कहा- ईडी आज भगवान से भी हुआ बड़ा

अपने बेबाक बयानों के लिए जाने जाने वाले राउत ने कहा कि पूरा महाराष्ट्र जानता है जिस बैंक में घोटाले को लेकर ईडी ने एफआईआर में नाम दर्ज किया है, उस बैंक में शरद पवार किसी भी पद पर नहीं रहे हैं।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार आज बैलार्ड एस्टेट स्थित प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दफ्तर में पेश होंगे। शरद पवार ने अपने समर्थकों से अपील की है कि वे ईडी के दफ्तर के सामने न जुटें। बलार्ड एस्टेट के आसपास सुरक्षा के मद्देनजर धारा 144 लागू कर दी गई है। लेकिन इस सब के बीच शरद पवार के समर्थन में भाजपा की सहयोगी शिवसेना उतर गई है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने शरद पवार के समर्थन में बयान देते हुए उन्हें भारतीय राजनीति का भीष्म पितामह करार दिया है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा-शिवसेना के बीच सीटों को लेकर बनी बात, 144 और 126 का तय हुआ फॉर्मूला

अपने बेबाक बयानों के लिए जाने जाने वाले राउत ने कहा कि पूरा महाराष्ट्र जानता है जिस बैंक में घोटाले को लेकर ईडी ने एफआईआर में नाम दर्ज किया है, उस बैंक में शरद पवार किसी भी पद पर नहीं रहे हैं। समाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे भी उन्हें क्लीनचिट दे चुके हैं। राउत ने पवार  के लिए दिए गए योगदानों का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने कृषि क्षेत्र में बहुत काम किया है। शिवसेना सांसद ने कहा कि हमारी पार्टी और विचारधारा भिन्न है, लेकिन मैं ये कहूंगा कि ईडी ने उनके साथ ग़लत किया है। ईडी आज भगवान से भी बड़ी हो गई है? भगवान माफ़ कर सकता हैं लेकिन ईडी नहीं।

इसे भी पढ़ें: चुनावी चटखारे ले लेकर पढ़िये- महाराष्ट्र के सबसे ताजा Election Update

बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून (पीएमएलए) के अंतर्गत दर्ज शिकायत के तहत ईडी उन आरोपों की जांच कर रही है कि एमएससीबी के शीर्ष अधिकारी, अध्यक्ष, एमडी, निदेशक, सीईओ और प्रबंधकीय कर्मचारी तथा सहकारी चीनी फैक्टरी के पदाधिकारियों को अनुचित तरीके से कर्ज दिए गए। वहीं दूसरी तरफ अगर महाराष्ट्र की राजनीति की बात करें तो शिवसेना और बीजेपी में सीटों को लेकर अभी भी मंथन जारी है। ऐसे में सीट बंटवारे से पहले राउत का यह बयान दवाब बनाने की रणनीति के तौर पर देखा जा सकता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।