प्रशांत किशोर के 30 साल वाले बयान पर तेजस्वी यादव का पलटवार, पूछा- कौन हैं PK

प्रशांत किशोर के 30 साल वाले बयान पर तेजस्वी यादव का पलटवार, पूछा- कौन हैं PK
ANI

तेजस्वी यादव ने प्रशांत किशोर पर पलटवार करते हुए कहा कि उनके इस बयान का कोई मतलब नहीं है। मुझे उसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, वह कौन है? उन्होंन साफ तौर पर कहा कि प्रशांत किशोर अब तक कभी भी कोई फैक्टर नहीं रहे हैं।

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को लेकर बिहार की राजनीति गर्म होती दिखाई दे रही है। प्रशांत किशोर ने हाल में ही घोषणा की थी कि बिहार में विकल्प और बदलाव की सोच वाले लोगों के साथ ‘जन सुराज’ के लिए काम करेंगे। इसी दौरान उन्होंने लालू यादव और नीतीश कुमार के 30 साल वाले शासन को लेकर भी सवाल उठा दिए थे। अब इसी पर तेजस्वी यादव का पलटवार आया है। तेजस्वी यादव ने प्रशांत किशोर पर पलटवार करते हुए कहा कि उनके इस बयान का कोई मतलब नहीं है। मुझे उसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, वह कौन है? उन्होंन साफ तौर पर कहा कि प्रशांत किशोर अब तक कभी भी कोई फैक्टर नहीं रहे हैं।

दरअसल, प्रशांत किशोर ने कहा था कि बिहार आज 30 साल के लालू और नीतीश के राज के बाद भी देश का सबसे पिछड़ा और गरीब राज्य है। विकास के कई मानकों पर बिहार आज भी देश के सबसे निचले पायदान पर है। बिहार अगर आने वाले समय में अग्रणी राज्यों की सूची में आना चाहता है तो इसके लिए नई सोच और नए प्रयास की जरूरत है। वहीं, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राज्य के मुखिया के तौर पर अपने प्रदर्शन के संदर्भ में राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर के आकलन को कोई महत्व नहीं देते। बिहार में कथित तौर पर पिछले 15 साल में कोई विकास का काम न होने संबंधी प्रशांत किशोर के आरोपों के बारे में पत्रकारों द्वारा शुक्रवार को पूछे जाने पर नीतीश ने कहा, ‘‘यह तो आप ही लोगों को पता है कि विकास हुआ या नहीं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘कौन क्‍या बोलता है, उसका कोई महत्व नहीं है। महत्व है सत्य का। आप सब जानते हैं कि क्‍या हुआ है, कितना काम किया गया है।’’ 

इसे भी पढ़ें: बतौर मुख्यमंत्री अपने प्रदर्शन पर प्रशांत किशोर के आकलन को कोई महत्व नहीं देते नीतीश

किशोर ने अपनी राजनीतिक परामर्श कंपनी आईपीएसी के जरिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनके कट्टर प्रतिद्वंद्वी लालू प्रसाद दोनों के साथ काम किया है। वहीं सीएए-एनआरसी को लेकर भी तेजस्वी ने बड़ा बयान दिया है। तेजस्वी ने कहा कि सीएए-एनआरसी पर हमारा स्टैंड स्पष्ट है। हम हमेशा संसद में इसका विरोध करते रहे हैं और मुझे नहीं लगता कि इसे बिहार में कभी भी जल्द ही लागू किया जाएगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।