तेलंगाना के मंत्री केटीआर ने बीजेपी नेताओं का उड़ाया मजाक, कहा- दम बिरयानी, ईरानी चाय का आनंद उठाए

BJP
Google common license
मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के बेटे केटीआर ने शुक्रवार को एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को तेलंगाना के विकास के उस मॉडल, नीतियों एवं योजनाओं का अध्ययन करना चाहिए, जिन्हें भाजपा शासित राज्यों में लागू किया जा रह है।

हैदराबाद। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल होने यहां पहुंचे नेताओं पर तंज कसते हुए तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के कार्यवाहक अध्यक्ष और मंत्री के टी रामा राव ने उनसे यहां ठहरने के दौरान विश्व प्रख्यात हैदराबादी दम बिरयानी और ईरानी चाय का स्वाद चखने के लिए कहा। भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शनिवार को शुरू हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कई दिग्गज नेता दो दिवसीय बैठक में भाग ले रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र: 3 जुलाई से शुरु होगा विधानसभा का दो दिवसीय विशेष सत्र

राम राव ने शुक्रवार रात ट्वीट किया, ‘‘व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी का इस खूबसूरत शहर हैदराबाद में उसकी कार्यकारिणी परिषद की बैठक के लिए स्वागत। सभी जुमला जीवियों के लिए : हमारी दम बिरयानी और ईरानी चाय का आनंद उठाना न भूलना।’’ राज्य सरकार की कुछ अहम पहलों जैसे कि टी-हब 2.0, कलेश्वरम परियोजना, पुलिस कमान नियंत्रण इमारत और यदाद्री मंदिर की तस्वीरें साझा करते हुए उन्होंने नेताओं से इन स्थानों पर जाने, जानकारियां लेने और अपने-अपने राज्यों में इन्हें लागू करने की कोशिश करने को कहा।

मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव के बेटे केटीआर ने शुक्रवार को एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को तेलंगाना के विकास के उस मॉडल, नीतियों एवं योजनाओं का अध्ययन करना चाहिए, जिन्हें भाजपा शासित राज्यों में लागू किया जा रह है। उन्होंने मोदी से कहा, ‘‘तेलंगाना से सीखो। आओ-देखो-सीखो।’’ इस बीच, शहर के ज्यादातर हिस्सों में भाजपा और टीआरएस दोनों ने अपने-अपने रंग बिरंगे पोस्टर और बैनर लगाए गए हैं। भाजपा ने अपने अभियान में मोदी और राष्ट्रीय कार्यकारिणी परिषद पर जोर दिया है जबकि टीआरएस ने अपनी सरकार की उपलब्धियों को रेखांकित किया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़