बोरे में एक-एक के सिक्के लेकर 'सुपरबाइक' खरीदने पहुंचा युवक, मैनेजर को पैसे गिनने में लगे 10 घंटे

बोरे में एक-एक के सिक्के लेकर 'सुपरबाइक' खरीदने पहुंचा युवक, मैनेजर को पैसे गिनने में लगे 10 घंटे

तमिलनाडु के सलेम में एक युवक ने पूरी रकम एक रुपये के सिक्कों में देकर 2.6 लाख रुपये की अपनी ड्रीम बाइक खरीदी। वी बूबाथी ने तीन साल तक एक-एक रुपये जोड़ता रहा। बाद में उन्होंने अपनी बचत जमा की और सिक्कों को एक शोरूम में ले गया और एक नयी बजाज डोमिनार खरीदी।

तमिलनाडु से एक अजीबोगरीब खबर साामने आयी है। जहां एक लड़के ने अपने सपनों की बाइक खरीदने के लिए तीन साल तक एक-एक रूपये जोड़े और आखिर में जब रकम पूरी हो गयी तो वह एक-एक के सिक्कों के साथ वाइक के शोरूम में पहुंचा और पूरी रकम एक-एक के सिक्सों से की। लड़के ने 2.6 लाख का भुगतान एक के सिक्कों से किया। लड़के के पेमेंट मोड को देखकर शोरूम में मौजूद हर व्यक्ति हैरान रह गया।

इसे भी पढ़ें: UP विधानसभा में योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादव का हुआ सामना, गर्मजोशी के साथ दोनों ने मिलाया हाथ

तमिलनाडु के सलेम में एक युवक ने पूरी रकम एक रुपये के सिक्कों में देकर 2.6 लाख रुपये की अपनी ड्रीम बाइक खरीदी। वी बूबाथी ने तीन साल तक एक-एक रुपये जोड़ता रहा। बाद में उन्होंने अपनी बचत जमा की और सिक्कों को एक शोरूम में ले गया और एक नयी बजाज डोमिनार खरीदी। भारत एजेंसी के प्रबंधक महाविक्रांत ने कहा, "मोटरसाइकिल शोरूम के कर्मचारियों ने बूबाती की तीन साल की बचत को गिनने में 10 घंटे का समय लिया।"

इसे भी पढ़ें: हिंदुओं को भी मिलेगा अल्पसंख्यक का दर्जा? केंद्र के SC में हलफमामे का मतलब और पूरे मामले के बारे में विस्तार से जानें

बूबाती एक BCA स्नातक का छात्र है और चार साल पहले YouTube चैनल शुरू करने से पहले एक निजी कंपनी में कंप्यूटर ऑपरेटर के रूप में काम करता था। उसने तीन साल पहले एक बाइक खरीदने का सपना देखा था, लेकिन उसके पास पैसे नहीं थे क्योंकि उस समय बाइक की कीमत 2 लाख रुपये थी। लेकिन, जैसा कि कहा जाता है - कि जब किसी चीज को सिद्दत से चाहों तो पूरी कायनात उसे आपसे मिलाने में लग जाती है। बूबाथी अपने गुल्लक को रोजाना 1 रुपये के सिक्कों से भरने में कामयाब रहा और वह बाइक खरीद ली जो वह हमेशा से चाहता था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।