बेंगलुरु में कोई लॉकडाउन नहीं होगा, राज्य की अर्थव्यवस्था सुधारना भी महत्त्वपूर्ण: येदियुरप्पा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 26, 2020   14:41
बेंगलुरु में कोई लॉकडाउन नहीं होगा, राज्य की अर्थव्यवस्था सुधारना भी महत्त्वपूर्ण: येदियुरप्पा

कोविड-19 को नियंत्रित करने के कदमों पर चर्चा करने के लिए बेंगलुरु के मंत्रियोंऔर सभी दलों के विधायकों तथा सांसदों के साथ अपनी बैठक से पहले उन्होंने कहा कि राज्य की आर्थिक स्थिति सुधारना भी उतना ही महत्त्वपूर्ण है।

बेंगलुरु। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा कि शहर में कोरोना वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए सभी प्रयास किए जाएंगे और नये सिरे से कोई लॉकडाउन नहीं लागू किया जाएगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि राज्य की आर्थिक स्थिति को सुधारना भी उतना ही महत्त्वपूर्ण है जितना कोविड-19 के प्रसार को रोकना। उन्होंने कहा कि भले ही राज्य की राजधानी को कोविड प्रबंधन के मामले में पूरे देश के लिए एक मॉडल माना जा रहा था और पिछले कुछ दिनों में संक्रमण के मामलों में वृद्धि देखी गई हो लेकिन हर किसी के सहयोग से वैश्विक महामारी पर नियंत्रण पाया जा सकता है। उनकी इस टिप्पणी से एक दिन पहले राजस्व मंत्री आर अशोक ने कहा था कि बेंगलुरु अब भी अन्य शहरों एवं राज्यों में कोविड-19 की स्थिति की तुलना में ‘सुरक्षित’ है।

उन्होंने फिलहाल दोबारा लॉकडाउन लगाने की संभावना से इनकार कर उन सभी अटकलों को विराम दे दिया कि मामलों में वृद्धि के मद्देनजर राजधानी में ऐसे किसी कदम पर विचार किया जा रहा है। येदियुरप्पा ने यहां संवाददाताओं से कहा, “किसी भी कारण से लॉकडाउन लगाने का सवाल ही नहीं उठता है। कुछ इलाकों में (जहां मामले ज्यादा हैं) हमने पहले से लॉकडाउन लगाया हुआ है, उन इलाकों के अलावा इसे कहीं और लागू करने का सवाल ही नहीं उठता है।” कोविड-19 को नियंत्रित करने के कदमों पर चर्चा करने के लिए बेंगलुरु के मंत्रियोंऔर सभी दलों के विधायकों तथा सांसदों के साथ अपनी बैठक से पहले उन्होंने कहा कि राज्य की आर्थिक स्थिति सुधारना भी उतना ही महत्त्वपूर्ण है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।