पार्थ की गिरफ्तारी के बाद और बढ़ सकती है ममता बनर्जी की मुश्किलें, इन TMC नेताओं पर भी जांच एजेंसी की पैनी नजर

TMC
creative common
अभिनय आकाश । Jul 28, 2022 6:54PM
पश्चिम बंगाल में एक कथित स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) घोटाले में पार्थ चटर्जी को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद से टीएमसी के और नेता और नौकरशाह केंद्रीय एजेंसियों की जांच के दायरे में हो सकते हैं।

ममता बनर्जी के सोनार बांग्ला में नोटों के पहाड़ और सोने की खदाने निकल रहे हैं। ये बात और है कि इन खदानों और खजानों की लोकेशन पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट्स हैं। अभी तक दो फ्लैट्स पर रेड हुई है सिर्फ और 55 करोड़ 36 लाख रुपये कैश और 5 करोड़ का सोना बरामद किए गए हैं। ईडी ने तीन बैंक खातों को सील भी किया है और कहा जा रहा है कि ढाई करोड़ उसमें भी मौजूद था। शिक्षक भर्ती घोटाले की सारी कमाई दिखाई दे रही है। आज टीएमसी के अंदर ऐसा लगा कि फूट पड़ गई। कुणाल घोष की तरफ से ट्वीट कर पार्थ चटर्जी को सभी पदों से तुरंत हटाने की मांग की गई।  जिसके बाद शाम होते-होते खबर आई कि ममता बनर्जी ने पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से हटाया और फिर टीएमसी ने पार्टी से भी निकाल दिया। लेकिन सारी कवायदों के बीच खबर ये आ रही है कि पार्थ के बाद  टीएमसी के अन्य नेता भी केंद्रीय एजेंसियों की जांच के घेरे में हैं। 

इसे भी पढ़ें: पार्थ चटर्जी पर ममता बनर्जी का बड़ा एक्शन, दिखाया गया मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता

इंडिया टुडे ने सूत्रों के हवाले से कहा  है कि पश्चिम बंगाल में एक कथित स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) घोटाले में पार्थ चटर्जी को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद से टीएमसी के और नेता और नौकरशाह केंद्रीय एजेंसियों की जांच के दायरे में हो सकते हैं। इंडिया टुडे को सूत्रों ने बताया कि प्रभारी मंत्री पीडब्ल्यूडी मोलॉय घटक, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के जिलाध्यक्ष अनुब्रत मंडल, राज्य के शिक्षा मंत्री परेश अधिकारी, टीएमसी विधायक माणिक भट्टाचार्य और पश्चिम बंगाल के शिक्षा सचिव मनीष जैन केंद्रीय एजेंसियों की जांच के घेरे में हैं।

इसे भी पढ़ें: तृणमूल सांसद ने सत्तापक्ष पर नफरत को शह देने का आरोप लगाया, ठाकुर ने बंगाल सरकार को विफल बताया

शिक्षा घोटाले में जहां परेश अधिकारी से पहले ही पूछताछ की जा चुकी है, वहीं एसएससी घोटाले में माणिक भट्टाचार्य से भी एक दिन पहले पूछताछ की गई थी। स्कूल नौकरी घोटाला मामले में आज गिरफ्तारी के बाद पार्थ चटर्जी को टीएमसी के सभी पदों से हटा दिया गया। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया। टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी ने कहा, "अगर कोई पार्टी के मंच का उपयोग करके धन इकट्ठा करने के लिए एक तंत्र बनाने की कोशिश करता है, तो पार्टी इसे बर्दाश्त नहीं करेगी। 

इसे भी पढ़ें: तृणमूल सांसद ने सत्तापक्ष पर नफरत को शह देने का आरोप लगाया, ठाकुर ने बंगाल सरकार को विफल बताया

हाथों में नोट लेकर बीजेपी का प्रदर्शन 

शिक्षक भर्ती घोटाले के विरोध में बीजेपी का प्रदर्शन किया गया। कोलकाता की सड़कों पर हाथों में नोट लेकर बीजेपी कार्यकर्ता उतरे हैं। पार्थ चटर्जी के खिलाफ बीजेपी के हजारों कार्यकर्ताओं का हुजुम उमड़ पड़ा। बीजेपी की तरफ से लगातार ये आरोप लगाया जाता रहा है कि टीएमसी सरकार में कोई भी काम बिना कट मनी के नहीं होता है। पार्थ चटर्जी ईडी की कस्टडी में है और उनसे पूछताछ की जा रही है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़