मध्य प्रदेश में शिकारियों ने करंट लगाकर बाघिन का किया शिकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2021   08:21
मध्य प्रदेश में शिकारियों ने करंट लगाकर बाघिन का किया शिकार

संजय बाघ अभयारण्य के क्षेत्र संचालक वाई. पी. सिंह ने कहा कि इस मामले में पांच संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। हिरासत में लिये गये आरोपियों कि निशानदेही पर रविवार को बाघिन का क्षत-विक्षत शव गोपद नदी में गोताखोरों की मदद से बरामद किया गया।

सीधी (मप्र)|  मध्य प्रदेश के सीधी जिले के संजय बाघ अभयारण्य से लापता हुई एक बाघिन को सिंगरौली जिले में शिकारियों ने कथित तौर पर बिजली का झटका देकर मार डाला। मामले में पांच संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। वन विभाग के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी।

संजय बाघ अभयारण्य के क्षेत्र संचालक वाई. पी. सिंह ने बताया कि बाघिन टी-30 की लोकेशन पांच नवंबर को तकरीबन पांच किलोमीटर दूर सिंगरौली जिले के पश्चिम सरई वन परिक्षेत्र के बंजारी गांव के समीप मिली। उन्होंने कहा कि पांच नवंबर की रात साढ़े 11 बजे के बाद बाघिन की स्थिति का पता नहीं चला।

इसे भी पढ़ें: सचिन तेंदुलकर ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री से मुलाकात की

सिंह ने बताया कि बंजारी गांव के समीप जंगल में शनिवार सुबह एक गड्ढे में बाघिन की खाल के छोटे-छोटे टुकड़े व बाल मिले और इससे थोड़ी दूर पर खून से सने जूट के दो बोरे व जली हुई कॉलर आई.डी. भी मिली।

उन्होंने कहा कि इस मामले में पांच संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। हिरासत में लिये गये आरोपियों कि निशानदेही पर रविवार को बाघिन का क्षत-विक्षत शव गोपद नदी में गोताखोरों की मदद से बरामद किया गया।

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के दिशा निर्देशों के तहत शव का पंचनामा बनाकर अवशेषों की जांच के लिए नमूना हैदराबाद भेजा जाएगा। सिंह ने बताया कि बाघिन को करंट लगाकर मारे जाने के सबूत मिले हैं। शिकार करने वाले गिरोह में 12 लोग शामिल थे।

इसे भी पढ़ें: मप्र में बाल कांग्रेस का गठन, वास्तविक इतिहास बताया जाएगा : कांग्रेस

उन्होंने कहा कि गिरोह के बाकी सदस्यों को पकड़ने के लिये सिंगरौली जिले के वन कर्मियों सहित पुलिस बल कि सहायता ली जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।