तृणमूल कांग्रेस के विधायकों और मंत्रियों का ममता बनर्जी सरकार पर से विश्वास उठ गया: दिलीप घोष

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   13:30
तृणमूल कांग्रेस के विधायकों और मंत्रियों का ममता बनर्जी सरकार पर से विश्वास उठ गया: दिलीप घोष

तृणमूल कांग्रेस के कद्दावर नेता शुभेंदु अधिकारी के इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री के निवास पर हुई आपात बैठक का हवाला देते दिलीप घोष ने कहा, ‘‘ दीदी राज्य के आपदा प्रबंधन में विफल रही हैं।

कोलकाता। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने शनिवार को कहा कि तृणमूल कांग्रेस के विधायकों और मंत्रियों का राज्य की ममता बनर्जी सरकार पर से विश्वास उठ गया है। घोष ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि यदि तृणमूल कांग्रेस के विधायक ही पार्टी पर विश्वास नहीं कर रहे हैं तो आम लोग कैसे करेंगे। उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के कद्दावर नेता शुभेंदु अधिकारी के इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री के निवास पर हुई आपात बैठक का हवाला देते कहा, ‘‘ दीदी राज्य के आपदा प्रबंधन में विफल रही हैं और अब वह पार्टी के आपदा प्रबंधन में व्यस्त हैं। अब ऐसी बैठकें अधिक होंगी क्योंकि कई लोग भाजपा में शामिल होने की कतार में हैं। ’’

इसे भी पढ़ें: अवैध कोयला खनन के रैकेट पर CBI का शिकंजा, बंगाल समेत 3 राज्यों के 40 स्थानों पर छापेमारी

उन्होंने कहा कि भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के आठ या नौ नवंबर के पश्चिम बंगाल आने की संभावना है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘‘ तृणमूल के दिन अब बीत गये। पुलिस उनके नियंत्रण में है, फिर भी लोग हमसे जुड़ रहे हैं जिसका मतलब है कि पार्टी अब खत्म हो गयी है।’’ शुक्रवार को तृणमूल विधायक मिहिर गोस्वामी पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल हो गये। उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र की दिशादृष्टि के अनुरूप राज्य में एक ‘नये राजनीतिक युग’ को लेकर आशान्वित हैं। घोष ने कहा, ‘‘ गोस्वामी का भाजपा से जुड़ना बस शुरुआत है, आने वाले महीनों में और लोग भाजपा से जुड़ेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।