उद्धव ठाकरे का आरोप, शिवसेना को खत्म करने की साज़िश रच रही है भाजपा

Uddhav Thackeray
ANI
शिवसेना भवन में यहां पार्टी के जिला प्रमुखों की एक बैठक को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा कि विधानसभा को मनमाने तरीके चलाना संविधान का अपमान है।
मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा में एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाली सरकार के विश्वास मत हासिल करने की पृष्ठभूमि में शिवसेना प्रमुख एवं पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को आरोप लगाया कि भाजपा उनकी पार्टी को खत्म करने की साज़िश रच रही है और उसे राज्य में मध्यावधि चुनाव कराने की चुनौती दी। शिवसेना भवन में यहां पार्टी के जिला प्रमुखों की एक बैठक को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा कि विधानसभा को मनमाने तरीके चलाना संविधान का अपमान है। 

इसे भी पढ़ें: आम जनता को राहत देने की तैयारी में महाराष्ट्र सरकार, CM एकनाथ शिंदे का ऐलान- पेट्रोल, डीजल पर कम होगा वैट

शिवसेना की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, ठाकरे ने पार्टी के जिला अध्यक्षों से कहा कि अगर वे लड़ना चाहते हैं, तो एकजुट रहें। बयान में ठाकरे के हवाले से कहा गया है, “ शिवसेना को खत्म करने की यह भाजपा की चाल है। मैं उन्हें राज्य में मध्यावधि चुनाव कराने की चुनौती देता हूं। यह खेल खेलने के बजाय, हम जनता की अदालत में जाएंगे। अगर हम गलत हैं, तो लोग हमें घर भेज देंगे और आप (भाजपा और शिंदे गुट) गलत हैं तो लोग आपको घर भेज देंगे।” 

इसे भी पढ़ें: NCP पर बरसे एकनाथ शिंदे, बोले- उद्धव को आगे बढ़ने के लिए कहा था, मेरी CM पोस्ट पर नहीं था नजर

उन्होंने विशेषज्ञों से भी यह इस मुद्दे पर राय देने को कहा कि राज्य में चल रहा राजनीतिक घटनाक्रम क्या संविधान के मुताबिक है या संवैधानिक मानदंडों का उल्लंघन किया है? पिछले महीने शिंदे ने शिवसेना के खिलाफ बगावत कर दी थी। पार्टी के अधिकतर विधायक उनके पाले में चले गए थे, जिस वजह से ठाकरे नीत महा विकास आघाड़ी सरकार गिर गई थी। ठाकरे के इस्तीफे के एक दिन बाद शिंदे ने 30 जून को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़