पुजारियों की हत्या पर उद्धव ठाकरे ने की योगी आदित्यनाथ से बात, जानें क्या कुछ कहा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   16:35
पुजारियों की हत्या पर उद्धव ठाकरे ने की योगी आदित्यनाथ से बात, जानें क्या कुछ कहा

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि ऐसी घटनाओं पर हमें राजनीति करने से बचना चाहिये और दोषियों को सजा दिलाने के लिये मिलकर काम करना चाहिये।

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने उत्तर प्रदेश के अपने समकक्ष योगी आदित्यनाथ को मंगलवार को फोन कर बुलंदशहर में दो पुजारियों की हत्या को लेकर चिंता जतायी। शिवसेना नेता संजय राउत ने यह जानकारी दी। राउत ने भाजपा पर ताना कसते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में दो पुजारियों की हत्या को महाराष्ट्र के पालघर की घटना की तरह सांप्रदायिक रंग न दिया जाए। उन्होंने  बताया कि ठाकरे ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को फोन कर बुलंदशहर की घटना पर चिंता जतायी है। राउत ने कहा कि ऐसी घटनाओं पर हमें राजनीति करने से बचना चाहिये और दोषियों को सजा दिलाने के लिये मिलकर काम करना चाहिये। इससे पहले राउत ने ट्वीट कर कि बुलंदशहर में दो पुजारियों की हत्या की घटना को अमानवीय और बर्बर करार दिया। 

इसे भी पढ़ें: बुलंदशहर के मंदिर में दो साधुओं की हत्या, विपक्ष ने कहा- गहराई से हो जांच 

उन्होंने ट्वीट किया, भयावह ! उप्र में बुलंदशहर के एक मंदिर में दो साधुओं की हत्या..., लेकिन मैं सभी से अपील करता हूं कि वे इसे सांप्रदायिक न बनाएं, जिस तरह से कुछ लोगों ने महाराष्ट्र के पालघर मामले में करने की कोशिश की। उन्होंने लिखा कि शांति बनाए रखें। देश कोरोना वायरस महामारी से लड़ रहा है और योगी आदित्यनाथ दोषियों को सजा दिलाएंगे। गौरतलब है कि महाराष्ट्र के पालघर में 16 अप्रैल को भीड़ ने दो संतों औरउनके कार चालक को कथित तौर पर पीट-पीटकर मार डाला था। दोनों संत अंतिम संस्कार के सिलसिले में मुंबई से गुजरात के सूरत की ओर जा रहे थे। इस दौरान उनके वाहन को पालघर के निकट एक गांव में रोक लिया गया। इसके बाद भीड़ ने उन्हें बाहर निकाला और बच्चा चोर होने के संदेह में डंडों से कथित तौर पर पीट-पीटकर उन्हें मार डाला।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।