उत्तर प्रदेश एवं अन्य राज्यों को पेट्रोल, डीजल पर वैट कम करना चाहिए: मायावती

Mayawati
ani
बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने केंद्र द्वारा पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में कमी किए जाने के बाद रविवार को कहा कि अब उत्तर प्रदेश ही नहीं, बल्कि अन्य सभी राज्यों की जिम्मेदारी बनती है कि वे वैट (मूल्य संवर्धित कर) में तत्काल कटौती करें।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने केंद्र द्वारा पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में कमी किए जाने के बाद रविवार को कहा कि अब उत्तर प्रदेश ही नहीं, बल्कि अन्य सभी राज्यों की जिम्मेदारी बनती है कि वे वैट (मूल्य संवर्धित कर) में तत्काल कटौती करें। मायावती ने रविवार को ट्वीट किया, ‘‘देश में हर तरफ बढ़ती महंगाई, गरीबी, बेरोजगारी एवं तनाव आदि की मार से त्रस्त एवं बदहाल जीवन जीने को मजबूर लोगों को केंद्र ने काफी समय बाद पेट्रोल-डीजल के शुल्क में थोड़ी राहत दी है।

इसे भी पढ़ें: अमित शाह ने 1000 करोड़ की विभिन्न विकास परियोजनाओं का दिया तोहफा, कहा- राहुल अपना इटालियन चश्मा निकालकर विकास को देखें

अब उत्तर प्रदेश व अन्य राज्यों की जिम्मेदारी बनती है कि वे केंद्र की बात मानकर इन (पेट्रोल और डीजल) पर तत्काल वैट कम करें। पूर्व मुख्यमंत्री ने एक अन्य ट्वीट किया, ‘‘इसी प्रकार, अब समय आ गया है कि केंद्र एवं राज्य सरकारें दिन-प्रतिदिन गंभीर होती जा रही इन राष्ट्रीय समस्याओं पर राजनीतिक स्वार्थ एवं आपसी नफा-नुकसान को त्यागते हुए साथ मिलकर समुचित ध्यान दें, ताकि आम लोगों का जीवन सामान्य हो सके। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में शनिवार को आठ रुपये प्रति लीटर और डीजल पर छह रुपये प्रति लीटर की कटौती की।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़