भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कमलनाथ से पूछा आपका हवाला कांड से क्या संबंध था

VD Sharma asked Kamal Nath
दिनेश शुक्ल । Oct 29, 2020 7:10PM
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि आपका हवाला काण्ड से क्या संबन्ध था, कमलनाथ जी जनता को जवाब दीजिए ? आप पर आरोप लगा कि अपने विधायकों को चुप रहने के लिए आपके द्वारा पैसे दिए जाते थे, क्या यह खरीद-फरोख्त नहीं थी ? जनता जवाब चाहती है कमलनाथ जी ! किसानों का क़र्ज़ मांफ करने की वजाय कमलनाथ जी आपने किसानों के नाम पर ताम्रपत्र घोटाला कर डाला। प्रदेश की जनता जवाब चाहती है !!

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने पूछा है कि हवाला कांड से आपके क्या संबंध था कमलनाथ जी जनता को जबाब दीजिए। गुरूवार को मध्य प्रदेश भाजपा कार्यालय में प्रेसवार्ता कर विष्णुदत्त शर्मा ने पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ को घेरने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि आपके 15 माह के शासन काल का जनता को हिसाब न देकर आपके मातृशक्ति को जैसे मुद्दों पर बयान दिया। विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि छिदवाड़ा से आपके अपनी पत्नी को चुनाव लड़वाया था और फिर उनसे इस्तीफा दिलवाकर आप फिर सांसद बन गए। नारी शक्ति के बारे में आपके क्या विचार है आपकी भावना क्या है पूरे देश प्रदेश और छिंदवाड़ा ने देखा। हवाला कांड में नाम आने के बाद आपने इस्तीफा देकर अपनी पत्नी को चुनाव लड़वाया था फिर उनसे इस्तीफा क्यों दिलवाया।  

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश उप चुनावों के बीच अवैध शराब, ड्रग और करोड़ों की नगदी जब्त

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि आपका हवाला काण्ड से क्या संबन्ध था, कमलनाथ जी जनता को जवाब दीजिए ? आप पर आरोप लगा कि अपने विधायकों को चुप रहने के लिए आपके द्वारा पैसे दिए जाते थे, क्या यह खरीद-फरोख्त नहीं थी ? जनता जवाब चाहती है कमलनाथ जी ! किसानों का क़र्ज़ मांफ करने की वजाय कमलनाथ जी आपने किसानों के नाम पर ताम्रपत्र घोटाला कर डाला। प्रदेश की जनता जवाब चाहती है !! भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि जनवरी माह में जब कोरोना की एडवाइजरी जारी हुई थी तब कमलनाथ इंदौर मे आधिकारियों के साथ आइफा अवार्ड के लिए बैठक कर रहे थे। प्रदेश में एक भी किट तथा कोई भी व्यवस्था नही थी लेकिन जिन्होने कोई व्यवस्था नही की आज वो पीपीई किट पर घोटाले की बात कर रहे हैं। इसी के साथ कांग्रेस के आरोप पत्र पर कहा कि कांग्रेस ने आरोप पत्र में पीपीई किट घोटाले की बात कही है, क्या सिर्फ लिख देने से घोटाला होता है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस का खाली दिमाग शैतान का घर, इसलिए कर रहे अनर्गल टिप्पणियां : नरेन्द्रसिंह तोमर

उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर आरोप लगाते हुए प्रश्न किए कि राजू मंटाना और गोपाल रेड्डी का कमलनाथ से क्या संबंध है। कमलनाथ रतुलपुरी के मामा है, जिन्होने साढे तीन हजार करोड़ का घोटाला किया तथा प्रवीण कक्कड़ की थर्ड आई क्या है और मिगलानी से क्या संबंध हैं। छिंदवाड़ा प्रोजेक्ट के लिए 450 करोड़ अग्रिम किसको दिया गया। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष कमलनाथ से सवाल करते हुए पूछा कि यह अजय जैन कौन है। कमलनाथ बताये की बिरला कंपनी से 4 करोड़ का ब्रिज क्रॉप कंपनी को चंदा किसने दिलाया। अश्वनी शर्मा कौन है ? कर्नाटक के संतोष आईटी एक्सपर्ट कौन है तथा कमलनाथ जी का हवाला से क्या संबंध क्या था। वही मुख्यमंत्री शिवराज के कामों की तारीफ करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज ने पहली रात से ही कोरोना संकट के दौरान काम किया है। प्रदेश के एक भी अस्पताल में कोरोना के इलाज के लिए व्यवस्था नहीं थी वह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ही थे जिन्होंने कोरोना मरीजों के लिए दिन रात एक कर इलाज की व्यवस्था कि और कोविड से लड़ने के साथ ही पूरे प्रदेश में इस महामारी को बढ़ने से रोकने के लिए काम किया।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश कांग्रेस ने मुख्यमंत्री और भाजपा सरकार के खिलाफ जारी किया आरोप पत्र, लगाए गंभीर आरोप

उल्लेखनीय है कि बुधवार को मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने प्रेसवार्ता कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा शासन काल के 15 सालों पर आरोप पत्र जारी किया था। इस दौरान पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा और पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर पिछले 7 महिनों के दौरान कई घोटाले करने का आरोप लगाते हुए 15 साल की भाजपा सरकार में हुए घोटालों पर आरोप पत्र जारी किया था। जिसको लेकर भाजपा ने गुरूवार को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को निशाना बनाते हुए उनसे सवाल किए है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़