विष्णुदत्त शर्मी ने कमलनाथ पर चीन से सांठगांठ का लगाया आरोप, कही यह अहम बात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 27, 2020   21:35
विष्णुदत्त शर्मी ने कमलनाथ पर चीन से सांठगांठ का लगाया आरोप, कही यह अहम बात

मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने बताया कि कमलनाथ ने चीन के साथ मिलकर ऐसे उत्पादों पर आयात शुल्क में 40 से 200 प्रतिशत तक छूट दे दी, जो देश में ही उपलब्ध थे।

भोपाल। मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष एवं सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने शनिवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर केंद्रीय वाणिज्य मंत्री रहते हुए गांधी परिवार और कांग्रेस को फायदा पहुंचाने के लिए चीन से सांठगांठ करने का आरोप लगाया। शर्मा ने यहां संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि केंद्रीय वाणिज्य मंत्री रहते हुए कमलनाथ ने गांधी परिवार और कांग्रेस को फायदा पहुंचाने के लिए चीन से सांठगांठ की। कमलनाथ ने चीनी कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए देश और प्रदेश के छोटे कारीगरों, कारोबारियों की रोजी-रोटी छीन ली। उन्होंने कहा, कमलनाथ का यह कृत्य राष्ट्र के प्रति अपराध और गद्दारी है। 

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ सरकार ने चाइनीज कंपनी को दिया था नियम विरूद्ध 271 करोड़ का ठेका 

शर्मा ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी कमलनाथ के चेहरे से नकाब हटाने के लिए रविवार को पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन करेगी और उनके पुतले जलाएगी। शर्मा ने बताया कि कमलनाथ ने चीन के साथ मिलकर ऐसे उत्पादों पर आयात शुल्क में 40 से 200 प्रतिशत तक छूट दे दी, जो देश में ही उपलब्ध थे। इससे देश में लकड़ी, मिट्टी, बांस के छोटे-छोटे काम करने वाले कारीगरों, छोटे व्यापारियों की आजीविका छीन गई। उन्होंने कहा कि कुशल कारीगर जो घर में रहकर बर्तन, दोने-पत्तल, कृषि उपकरण, अगरबत्ती बनाने का काम करते थे, वे कमलनाथ की इस करतूत के कारण अचानक बेरोजगार हो गए। देश और प्रदेश के कई लघु व कुटीर उद्योग बर्बाद हो गए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।