दिल्ली पुलिस की FIR पर भड़के ओवैसी, बोले- हम नहीं होंगे भयभीत, मैंने क्या गलती की यह बताया जाए

Asaduddin Owaisi
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी मुझे एफआईआर का एक अंश मिला है। यह पहली प्राथमिकी है जो मैंने देखी है, जो यह स्पष्ट नहीं कर रही है कि अपराध क्या है ... हम इससे भयभीत नहीं होंगे। अभद्र भाषा की आलोचना करने और अभद्र भाषा देने की तुलना नहीं की जा सकती।

नयी दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने नफरत भरे संदेश फैलाने के आरोप में एफआईआर दर्ज की है। इस संबंध में असदुद्दीन ओवैसी का बयान सामने आया है। जिसमें उन्होंने कहा कि पुलिस बताए कि मैंने क्या गलती की है। 

इसे भी पढ़ें: असदुद्दीन ओवैसी और स्वामी यति नरसिंहानंद के खिलाफ दिल्ली पुलिस की FIR, भड़काऊ भाषण देने का है आरोप 

FIR से नहीं होंगे भयभीत

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी मुझे एफआईआर का एक अंश मिला है। यह पहली प्राथमिकी है जो मैंने देखी है, जो यह स्पष्ट नहीं कर रही है कि अपराध क्या है ... हम इससे भयभीत नहीं होंगे। अभद्र भाषा की आलोचना करने और अभद्र भाषा देने की तुलना नहीं की जा सकती।

उन्होंने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि दिल्ली पुलिस में यति, नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के खिलाफ मामलों को आगे बढ़ाने का साहस नहीं है। यही वजह है कि मामले में देरी और कमजोर प्रतिक्रिया जारी है। वास्तव में यति ने मुसलमानों के खिलाफ नरसंहार को बढ़ावा देने और इस्लाम का अपमान करके अपनी जमानत की शर्तों का बार-बार उल्लंघन किया है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस शायद हिंदुत्ववादी कट्टरपंथियों को ठेस पहुंचाए बिना इन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का तरीका सोचने की कोशिश कर रही थी। दिल्ली पुलिस दोनों पक्षवाद या संतुलन-वाद सिंड्रोम से पीड़ित है। एक पक्ष ने खुले तौर पर हमारे पैगंबर का अपमान किया है, जबकि दूसरे पक्ष का नाम भाजपा समर्थकों को समझाने और ऐसा दिखाने के लिए दिया गया है कि दोनों पक्षों में अभद्र भाषा थी। 

इसे भी पढ़ें: पैगंबर मोहम्मद मामले में ओवैसी ने अलकायदा को लताड़ा, बोले- मुसलमानों को आतंकवादियों की ज़रूरत नहीं 

32 लोगों के खिलाफ FIR

दिल्ली पुलिस ने भाजपा से निष्कासित नुपुर शर्मा, नवीन जिंदल समेत 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी लेकिन फिर और भी लोगों को नामजद किया। जिसके बाद एफआईआर में कुल 32 लोगों के नाम शामिल है। दरअसल, दिल्ली पुलिस की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशन (आईएफएसओ) यूनिट ने एफआईआर दर्ज की है। जिसमें एफआईआर में असदुद्दीन ओवैसी और महंत यति नरसिंहानंद का नाम दर्ज एफआईआर में नामजद किया गया है।

आपको बता दें कि इन तमाम लोगों पर नफरत भरे संदेश के माध्यम से माहौल खराब करने का आरोप है। इनकी वजह से सार्वजनिक शांति बनाए रखने में मुश्किल हो रही थी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़